आईआईटी दिल्ली के एक छात्र ने शुक्रवार को अपने छात्रावास के कमरे में आत्महत्या कर ली. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक 21 साल का यह छात्र पश्चिम बंगाल के हुगली जिले का रहने वाला था. पुलिस को उसकी मौत की खबर तब मिली जब उसके एक दोस्त ने उसे कमरे में पंखे से लटका पाया. आत्महत्या करने से पहले छात्र ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा था. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक सुसाइड नोट में छात्र ने अपने दो रिश्तेदारों का नाम लिया है. पुलिस के मुताबिक मृतक ने सुसाइड नोट में लिखा था कि उसका बचपन से यौन शोषण किया गया था जिससे वह डिप्रेशन में था.

सूत्रों ने बताया कि पुलिस इस मामले को अप्राकृतिक यौन हमले और पॉक्सो एक्ट की धाराओं के तहत दर्ज करेगी और इसे पश्चिम बंगाल पुलिस को भेजेगी. परिवार वालों ने बताया कि छात्र ने कोलकाता के जाने-माने विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन पूरी कर आईआईटी में एडमिशन लिया था. उन्होंने बताया कि कोलकाता में रहने के दौरान उसने कभी भी यौन शोषण का जिक्र नहीं किया, न ही उसने कभी ऐसे संकेत दिए.

खबर के मुताबिक छात्र ने पहले भी आत्महत्या करने की कोशिश की थी. उसके बड़े भाई ने पुलिस को बताया कि उसने 10 अप्रैल को नींद की गोलियां खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की थी. उसे सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था जहां इलाज के बाद वह उसे अपने घर ले गया और उसे दो दिन समझाया. बीते गुरुवार को भाई ने उसे वापस छात्रावास छोड़ दिया था.