‘आज यदि एक गरीब मां का बेटा प्रधानमंत्री है तो यह बाबा साहेब की ही देन है.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह बयान बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की जयंती के मौके पर छत्तीसगढ़ के बीजापुर में ‘आयुष्मान भारत’ कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए आया. इस मौके पर उन्‍होंने बताया कि इस कार्यक्रम से देश के प्राथमिक स्वास्थ्य की सूरत बदलने की कोशिश की जाएगी और इसके तहत देश के लगभग डेढ़ लाख प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और उपकेंद्रों को ‘हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर’ के रूप में बदला जाएगा. उन्होंने बीजापुर से इस कार्यक्रम की शुरुआत करने की वजह बताते हुए कहा कि उनकी सरकार पिछड़े इलाकों को विकास की मुख्यधारा में लाना चाहती है. उन्होंने देश की तरक्की में बाबा साहेब के योगदान के लिए उनकी जमकर तारीफ की. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘बाबा साहेब काफी पढ़े-लिखे थे. यदि वे चाहते तो पढ़ने के बाद विदेश में ही शानदार जिंदगी गुजार सकते थे, लेकिन देश के पिछड़े, वंचितों, दलितों और आदिवासियों की खातिर उन्होंने अपना जीवन देश को समर्पित कर दिया.’

 ‘अगर प्रधानमंत्री की नीयत साफ है तो वे एससी-एसटी कानून पर अध्यादेश लेकर आएं.’  

— मायावती, बसपा प्रमुख

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने यह बात आंबेडकर जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देते हुए कही. इससे पहले प्रधानमंत्री ने कल दिल्ली में भीमराव आंबेडकर के स्मारक का उद्घाटन करते हुए दावा किया था कि उनकी सरकार ने एससी-एसटी कानून को कमजोर करने के बजाय उसे मजबूत बनाया है. इस दावे को खारिज करते हुए मायावती ने कहा कि यदि ऐसा है तो प्रधानमंत्री को अदालत के फैसले का इंतजार करने के बजाय इस कानून को प्रभावी बनाने के लिए कैबिनेट की मंजूरी से अध्यादेश जारी करना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सरकार ने यदि अध्यादेश जारी कर दिया होता तो दलितों को दो अप्रैल को भारत बंद कराना ही नहीं पड़ता. मायावती ने प्रधानमंत्री पर सीधा निशाना साधते हुए कहा कि केवल बाबा साहेब के नाम से योजनाएं शुरू करने और स्मारक बनाने से दलितों का विकास नहीं होने वाला. उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा को नसीहत देते हुए कहा कि यदि वह दलितों के दिल में जगह बनाना चाहती है तो उसे उनके उत्थान की दिशा में ईमानदारी से काम करना चाहिए.


‘गांधी परिवार ने अमेठी में जो काम चार-पांच दशकों में नहीं किया, उसे हमने चार साल में ही कर दिया.’  

— स्मृति ईरानी, केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने उत्तर प्रदेश के अमेठी संसदीय क्षेत्र के दो दिवसीय दौरे के बीच यह दावा किया है. उन्होंने वहां के सांसद और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अमेठी आकर केंद्र सरकार के ये काम देखने की अपील भी की. हालांकि उन्हें जब मालूम हुआ कि कांग्रेस अध्यक्ष वहां जल्द ही आने वाले हैं तो स्मृति ईरानी ने कहा, ‘हमने 2014 में ही कहा था कि अब राहुल जी के ज्यादा दर्शन होंगे. मुझे खुशी है कि मैंने जो कहा था वह कर दिखाया है.’ 2014 का लोक सभा चुनाव अमेठी से हार चुकी स्मृति ईरानी ने भीमराव आंबेडकर के जन्मदिवस पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि भाजपा सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास’ कर रही है जो बाबा साहेब का भी सपना था.


 ‘सीरिया पर हमला असद सरकार की दरिंदगी का उचित जवाब है.’  

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिकी राष्ट्रपति

सीरिया पर हमला करने के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह बात कही है. उन्होंने वहां की बशर अल असद सरकार पर अपने नागरिकों पर किए गए कथित रासायनिक हमले की निंदा करते हुए अपने अभियान को सफल करार दिया है. उन्होंने सोशल मीडिया पर कहा, ‘सीरिया को इससे बेहतर जवाब नहीं दिया जा सकता था. हमारा लक्ष्य पूरा हुआ.’ डोनाल्ड ट्रंप ने इस कार्रवाई में साथ देने के लिए ब्रिटेन और फ्रांस का आभार व्यक्त करते हुए उनकी सेनाओं की प्रशंसा की है. इससे पहले पिछले शनिवार को सीरिया के ड्यूमा में एक रासायनिक हमला हुआ था जिसमें कम से कम 60 लोग मारे गए थे. हालांकि अमेरिका के नेतृत्व में पश्चिमी देशों के जवाबी हमले की रूस, चीन, ईरान जैसे कई देशों ने कड़ी निंदा की है. इन देशों ने इस हमले को अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करार देते हुए हमलावर देशों को अपराधी करार दिया है.