कॉमनवेल्थ गेम्स में महिला बैडमिंटन के एकल मुकाबले में भारत की दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल ने स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया है. रविवार को हुए फाइनल मुकाबले में उन्होंने भारत की ही स्टार शटलर पीवी सिंधु को हारकर यह उपलब्धि हासिल की. इस तरह रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु को कॉमनवेल्थ गेम्स में भी रजत से ही संतोष करना पड़ा है.

सायना और सिंधु के बीच 56 मिनट तक चले मुकाबले को सायना ने 21-18, 23-21 से अपने नाम किया. इस जीत के साथ ही वे कॉमनवेल्थ गेम्स में दो स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई हैं. लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली सायना इससे पहले 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में भी गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं.

वहीं, बैडमिंटन के पुरुष एकल के फाइनल मुकाबले में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत को हार का सामना करना पड़ा है. उन्हें मलेशिया के वर्ल्ड नंबर-7 ली चोंग वाई ने 19-21, 21-14 21-14 से मात दी. हालांकि, श्रीकांत रजत पदक जीतने में सफल रहे हैं.

रविवार को बैडमिंटन के इन एकल मुकाबलों में भारत को मिले तीन पदकों के साथ उसके कुल पदकों की संख्या अब 65 पहुँच गई है. इसमें 26 गोल्ड और 19 सिल्वर मेडल शामिल हैं.