ऑस्ट्रेलिया में 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने कुल 66 पदकों के साथ अपने अभियान का समापन किया है. आखिरी दिन भारत ने एक स्वर्ण सहित कुल चार पदक जीते. ये चारों ही पदक बैडमिंटन में मिले हैं. रविवार को महिला बैडमिंटन के एकल मुकाबले में भारत की दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल ने स्वर्ण और पीवी सिंधु ने रजत पदक जीता.

वहीं, बैडमिंटन के पुरुष एकल के फाइनल मुकाबले में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत को हार का सामना करना पड़ा. उन्हें मलेशिया के ली चोंग वाई ने 19-21, 21-14 21-14 से मात दी. हालांकि, श्रीकांत रजत पदक जीतने में सफल रहे. इसके अलावा कॉमनवेल्थ गेम्स के अंतिम दिन भारत को एक रजत पदक बैडमिंटन के मिक्स्ड डबल्स स्पर्धा में मिला.

इस तरह 11 दिन चले 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य पदक के साथ भारत पदक तालिका में तीसरे स्थान पर रहा. जबकि, 80 स्वर्ण के साथ ऑस्ट्रेलिया पहले और 44 स्वर्ण पदकों के साथ इंग्लैंड दूसरे स्थान पर रहा.

इस बार भारत का कुल 66 पदक जीतना कॉमनवेल्थ गेम्स के इतिहास में उसका तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. इससे पहले उसने साल 2010 में दिल्ली में हुए इन खेलों में 101 और 2002 में मैनचेस्टर में 69 पदक जीते थे.