कर्नाटक में विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक समीकरण तेजी से बदल रहे हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सोमवार को ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) ने आगामी चुनाव में जनता दल (सेक्युलर) का समर्थन करने की घोषणा कर दी है. एआईएमआईएम प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ‘हम कर्नाटक का आगामी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. एआईएमआईएम, जनता दल (सेक्युलर) का समर्थन करेगी और उसके लिए प्रचार भी करेगी.’

रिपोर्ट के मुताबिक असदुद्दीन ओवैसी ने इस मौके पर भाजपा और कांग्रेस पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि दोनों राष्ट्रीय दल कर्नाटक की जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने में नाकाम रहे हैं, इसलिए राज्य में बदलाव होना चाहिए. असदुद्दीन ओवैसी ने गैर-भाजपा और गैर-कांग्रेस सरकार को देश हित में अच्छा बताया. वहीं, कांग्रेस के वोटों में सेंध लगाने के आरोपों पर उन्होंने कहा, ‘(कांग्रेस का) वोट काटकर भाजपा को लाभ पहुंचाने का हम पर लगाया जा रहा आरोप बेबुनियाद है. हमने गुजरात, झारखंड, जम्मू-कश्मीर में चुनाव नहीं लड़ा था. हमने उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में लोक सभा चुनाव भी नहीं लड़ा था. लेकिन कांग्रेस को वहां क्या हो गया था?’

कर्नाटक में जनता दल (सेक्युलर) ने बसपा के साथ भी गठबंधन किया है. वहीं, सत्ताधारी कांग्रेस और विपक्षी दल भाजपा अपने दम पर चुनाव लड़ रहे हैं. कर्नाटक विधानसभा की 225 सीटों के लिए 12 मई को मतदान होगा. वहीं, 15 मई को वोटों की गिनती की जाएगी.