देश की सड़कों पर अब निजी वाहन ही नहीं बल्कि टैक्सियां और दुपहिया भी अब और तेजी के साथ फर्राटा भर सकेंगे. सरकार ने वाहनों की अधिकतम रफ्तार के नियमों में बदलाव किया है. इसके तहत एक्सप्रेसवे पर अब निजी गाड़ियां (कार) 120 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ाई जा सकेंगी. अब तक इनकी अधिकतम सीमा 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की थी. निजी कारों के साथ टैक्सियों के लिए अधिकतम रफ्तार 80 से बढ़ाकर 100 किलोमीटर प्रतिघंटे कर दी गई है.

एक्सप्रेस वे की ही तरह राष्ट्रीय राजमार्गों यानी नेशनल हाइवे पर चलने वाले वाहनों की अधिकतम रफ्तार में भी इजाफा किया गया है. निजी वाहन अब 90 के बजाय 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ सकेंगे तो वहीं टैक्सियों के लिए यह सीमा 70 से बढ़ाकर 90 किलोमीटर प्रति घंटा कर दी गई है. इसी तरह दुपहिया और व्यावसायिक वाहनों के लिए अधिकतम रफ्तार अब 80 किलोमीटर प्रति घंटे की होगी.

रफ्तार के नियमों में हुए बदलावों में शहर की सड़कें भी शामिल हैं. शहरों में निजी वाहन 70 किलोमीटर तो वहीं स्कूटर-मोटरसाइकिलें 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकेंगी. अधिकतम रफ्तार की यह छूट हालांकि इन सभी सड़कों के कुछ हिस्सों पर ही मिलेगी. भीड़भाड़ वाली जगहों के अलावा गांवों और कस्बों से गुजरते हुए वाहन चालकों को राज्य सरकारों की तरफ से निर्धारित रफ्तार का पालन करना होगा.