दो देशों की अपनी पांच दिवसीय यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार की देर रात स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम पहुंचे. यहां स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टेफान लोफवेन ने प्रोटोकॉल तोड़कर हवाई अड्डे पर भारतीय प्रधानमंत्री का भव्य स्वागत किया. हवाई अड्डे से दोनों देशों के नेताओं ने एक ही गाड़ी में उस होटल तक सफर किया जिसमें नरेंद्र मोदी ठहरे हैं.

नरेंद्र मोदी की इस यात्रा का अपना ऐतिहासिक महत्व भी है क्योंकि बीते 30 सालों के दौरान किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यह पहली स्वीडन यात्रा है. इससे पहले 1988 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी स्वीडन गए थे. अपनी इस यात्रा को शुरू करने से पहले नरेंद्र मोदी ने स्वीडन को भारत का दोस्त और विकास कार्यक्रमों का साझेदार बताया था.

भारतीय प्रधानमंत्री की इस यात्रा से दोनों देशों के बीच विकास कार्यक्रमों में मजबूती की उम्मीद है. आज नरेंद्र मोदी और स्टेफान लोफवेन के बीच व्यापार और निवेश के अलावा द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर भी चर्चा होगी. इसके अलावा नरेंद्र मोदी आज नॉर्डिक सम्मेलन में भी हिस्सा लेंगे. स्वीडन, नॉर्वे, फिनलैंड, डेनमार्क और आइसलैंड देशों को सामूहिक रूप से नॉर्डिक देश कहा जाता है. इन देशों के साथ आपसी संबंधों को मजबूत करने के लिहाज से भी इस सम्मेलन को भारत के लिए बड़े अवसर के तौर पर देखा जा रहा है.

इसके बाद मंगलवार की रात नरेंद्र मोदी लंदन रवाना हो जांएगे. लंदन में उन्हें राष्ट्रमंडल देशों के प्रमुखों के सम्मेलन में हिस्सा लेना है. इस यात्रा के दौरान ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे से भी उनकी द्विपक्षीय मुलाकात होगी. लंदन से लौटते हुए वे कुछ समय के लिए बर्लिन में ठहरकर चांसलर अंगेला मेर्कल से भी मुलाकात करेंगे.