भाजपा के आंध्र प्रदेश अध्यक्ष के हरि बाबू ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उनके इस्तीफे को लेकर पहले से संभावनाएं जताई गई थीं. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक हरि बाबू ने अपना इस्तीफा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भेज दिया है. उनके इस कदम को पार्टी में बदलाव और नई नीतियां लाने के तहत उठाए जा रहे कदमों से जोड़कर देखा जा रहा है. बताया जा रहा है कि पार्टी हरि बाबू को कोई दूसरा वरिष्ठ पद दे सकती है.

रिपोर्टों की मानें तो तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के अलग होने के बाद भापा प्रदेश इकाई में बदलाव चाहती थी, इसीलिए आंध्र प्रदेश में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए पार्टी ने नई रणनीति पर काम करना शुरू किया है. हरि बाबू के इस्तीफे के बाद प्रदेश इकाई के अध्यक्ष पद के लिए जो नाम चर्चा में हैं उनमें विधान परिषद के सदस्य सोमू वीर राजू, विधायक और पूर्व मंत्री पी मानिकला राव, पूर्व कांग्रेस नेता कन्ना लक्ष्मीनारायण और यूपीए सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री डी पुरंदेश्वरी शामिल हैं.

लक्ष्मीनारायण और पुरंदेश्वरी दोनों साल 2014 में कांग्रेस छोड़ भाजपा में आ गए थे. हालांकि कहा जा रहा है कि कापू समुदाय के सोमू वीर राजू और पी मानिकला राव प्रदेश अध्यक्ष पद के सबसे मजबूत दावेदार हैं. पार्टी को लेकर भी चर्चा यही है कि वह कापू समुदाय से ही किसी को अध्यक्ष पद दे सकती है.

उधर, मध्य प्रदेश में भी भाजपा के अध्यक्ष पद को लेकर फिर अटकलें तेज हैं. सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक चैनल के कार्यक्रम में कहा कि अगला भाजपा प्रदेश अध्यक्ष कौन होगा, इसे लेकर तस्वीर बुधवार तक साफ हो जाएगी. चर्चा है कि चुनाव के ऐन मौके पर भाजपा ने जो काम 2008 और 2013 में किया, वही इस बार फिर किया जा सकता है. कहा जा रहा है कि इस बार भी मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह की विदाई हो सकती है.