केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच टकराव का एक नया मोर्चा खुल गया है. गृह मंत्रालय की सिफारिश के बाद मंगलवार को दिल्ली सरकार में आठ मंत्रियों के नौ सलाहकार हटा दिए गए. इनमें मनीष सिसोदिया की शिक्षा सलाहकार आतिशी मार्लेना, वित्त सलाहकार राघव चड्ढा, मीडिया सलाहकार अरुणोदय प्रकाश के साथ-साथ अमरदीप तिवारी, रजत तिवारी, राम कुमार झा, समीर मल्होत्रा, प्रशांत सक्सेना और दिनकर अदीब जैसे नाम शामिल हैं.

गृह मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि दिल्ली सरकार ने इन सलाहकारों की नियुक्ति से पहले इजाजत नहीं ली थी. मंत्रालय के मुताबिक सर्विसेज विभाग केंद्र सरकार के तहत आता है इसलिए दिल्ली की चुनी हुई सरकार यह नियुक्ति नहीं कर सकती.

उधर, सत्ताधारी आम आदमी पार्टी ने इस फैसले की आलोचना की है. पार्टी नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि भाजपा दिल्ली सरकार को लाचार करना चाहती है. उनका यह भी कहना था कि मोदी सरकार का यह फैसला दिल्ली की सुधरती शिक्षा व्यवस्था को खराब करने के लिए है. दिल्ली सरकार और केंद्र के बीच पहले भी कई मुद्दों पर टकराव होता रहा है.