देश के कई राज्यों में नकदी के संकट की ख़बर आज सोशल मीडिया पर छाई हुई है. हालांकि रिजर्व बैंक ने आश्वस्त किया है कि बैंकिंग व्यवस्था में पर्याप्त नकदी है और लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है. वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी कुछ इसी तरह का बयान दिया है. नकदी यह ताजा संकट फेसबुक और ट्विटर के ट्रेंडिंग टॉपिक में भी शामिल हुआ है.

इन ट्रेंडिंग टॉपिक के साथ-साथ सोशल मीडिया पर सामान्य प्रतिक्रियाओं में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय वित्त मंत्री और केंद्र सरकार को इस संकट के लिए घेरा जा रहा है. पत्रकार शिवम विज का तंजभरा ट्वीट है, ‘आज अर्थव्यवस्था में नोटबंदी से पहले के मुकाबले ज्यादा नकदी है फिर भी एटीएम अचानक खाली हो गए हैं. यह मोदी सरकार का जबर्दस्त वित्तीय प्रबंधन है. इसके लिए ‘वित्त मंत्री’ हसमुख अधिया (वित्त सचिव) को भारत रत्न दिया जाना चाहिए.’ पिछले दिनों एक खबर आई थी कि बीते साल भाजपा देश की सबसे अमीर पार्टी बन गई है. सोशल मीडिया पर नकदी के संकट का जिक्र करते हुए आज कई लोगों ने इस खबर का भी जिक्र किया है. सबा नकवी का तंज है, ‘नोटबंदी के बाद भाजपा की आमदनी 81 प्रतिशत बढ़ी है. अब आपको या मुझे नकद मिले या नहीं, लेकिन पार्टी का खजाना नए रिकॉर्ड जरूर तोड़ता रहेगा.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी पांच दिवसीय विदेश यात्रा के सिलसिले में आज स्वीडन पहुंचे हैं. सोशल मीडिया पर उनकी इस यात्रा से जुड़ी कई तस्वीरें शेयर हुई हैं, लेकिन इसके साथ नकदी संकट पर उन्हें निशाना बनाते हुए कुछ मजेदार टिप्पणियां भी आई हैं. एक यूजर की चुटकी है, ‘मोदी जी... नीरव मोदी से पैसे लेने गये हैं, तब तक आप लाइन में लगे रहो…’

सोशल मीडिया में नकदी के ताजा संकट पर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :

आमोद यादव | @Aamodyadav85

अजब दादागीरी है. खाते में पैसा न होने पर बैंक हर महीने चार्ज वसूल लेते हैं. लेकिन एटीएम में नकदी न होने पर बैंकों की कोई जवाबदारी नहीं है. सारे नियम-कानून पूंजीपतियों और अमीर लोगों के हित में क्यों हैं?

नाना पाटेकर | @DesiStupides

नेहरू की जगह सरदार पटेल प्रधानमंत्री होते तो आज एटीएम में कैश होता… होता कि नहीं मित्रों!

आइरनी ऑफ इंडिया | @IronyOfIndia_

मित्रो, देश आगे बढ़ रहा है कि नहीं?

ध्रुव राठी | @dhruv_rathee

2014 : जनधन योजना (बैंकों में खाते खोले गए)
2016 : नोटबंदी (बैंकों में पैसे जमा करवाए गए)
2017 : भाजपा सबसे अमीर राजनीतिक पार्टी बनी
2018 : बैंक घोटालेबाज जैसे नीरव मोदी पैसे लेकर देश से भागे और अब एटीएम में नकदी का संकट पैदा हो चुका है... घटनाओं का क्या संयोग है!

नाइट वॉचमैन | @watchman_knight

ज्यादा परेशान मत होइए. नकदी की कमी तो बस एक अभ्यास है ताकि जनता नोटबंदी जैसी आपात स्थिति के लिए तैयार हो सके.

मोस्टली ऑफलाइन | @sidin

भारतीय अब भी नकद और एटीएम का इस्तेमाल कर रहे हैं??? एक मध्ययुगीन देश.