यह घटना बीते महीने की 18 तारीख की है. लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे पर एयर इंडिया का बोईंग ड्रीमलाइनर अहमदाबाद के लिए उड़ान भरने की तैयारी कर चुका था. इसी दौरान विमान के कमांडर पायलट ने लावारिस हाल में एक मोबाइल फोन देखा. पता चला कि वह फोन ग्राउंड स्टाफ के मेंटेनेंस इंजीनियर का है. भूल से वह फोन विमान में ही छोड़ गया था. फिर विमान के कमांडर ने उड़ान से पहले कर्मचारी को फोन लौटाने का फैसला किया.

द टाइम्स आॅफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पायलट ने फोन के बारे में उड़ान दल के केबिन प्रमुख को सूचना दी. साथ ही वह मोबाइल फोन ग्राउंड स्टाफ को लौटाने के लिए कहा. कमांडर पायलट के निर्देश का केबिन प्रमुख ने पालन किया और उसके मालिक को फोन लौटा दिया गया. लेकिन इस फेर में उड़ान संख्या एआई- 176 को लंदन हवाईअड्डे से उड़ने में करीब दो घंटे की देरी हो गई.

एयर इंडिया के प्रवक्ता ने भी माना है कि लंदन-अहमदाबाद की एक अंतरराष्ट्रीय उड़ान के दौरान बीते महीने यह घटना हुई थी. एयर इंडिया का उड़ान सुरक्षा विभाग फिलहाल इस घटना की आंतरिक जांच भी कर रहा है. उधर कमांडर पायलट ने कहा है कि आज के समय में मोबाइल फोन रोजमर्रा के जीवन का अहम हिस्सा हो गया है. ऐसे में मानवीय आधार पर उन्होंने उस इंजीनियर को फोन लौटाने का फैसला किया था.