‘चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव का नोटिस राजनीतिक कदम है.’

— सुभाष सी कश्यप, संविधान विशेषज्ञ

संविधान विशेषज्ञ सुभाष सी कश्यप का यह बयान विपक्षी दलों द्वारा सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग का नोटिस दिए जाने पर आया. उन्होंने कहा कि यह न्यायपालिका और सरकार को शर्मिंदा करने वाला कदम है. सुभाष सी कश्यप आगे कहा कि संविधान में अक्षमता और दुर्व्यवहार जैसे आधारों पर किसी जज को हटाने का प्रावधान तो है, लेकिन महाभियोग का नहीं, इसलिए राज्यसभा के सभापति विपक्ष की अर्जी को खारिज भी कर सकते हैं. शुक्रवार को विपक्षी दलों ने संविधान के अनुच्छेद-124(4) के तहत तय प्रक्रिया से चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा को हटाने के लिए राज्य सभा के सभापति और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को नोटिस दिया है.

‘अमित शाह और उनका परिवार पीढ़ियों से सनातनी हिंदू है.’

— प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का यह बयान कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया द्वारा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के धर्म पर सवाल उठाए जाने के जवाब में आया. उन्होंने कहा, ‘विधानसभा चुनाव में बुरी तरह से हारने के डर से वे (सिद्धारमैया) आरोप लगा रहे हैं कि अमित शाह हिंदू नहीं हैं. कांग्रेस जिस स्तर पर नीचे चली गई है, वह समझ से परे है.’ प्रकाश जावड़ेकर के मुताबिक अमित शाह के रोड शो और जनसभाओं की सफलता ने कांग्रेस नेतृत्व को परेशान कर दिया है. शुक्रवार को मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था कि अमित शाह हिंदू नहीं, बल्कि जैन हैं और अगर वे हिंदू धर्म हैं तो उन्हें खुद यह बात बतानी चाहिए.


‘जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए संघर्ष करना पड़ेगा, तो करेंगे.’

— मनीष सिसोदिया, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का यह बयान सही मकसद के लिए राजनीतिक संघर्ष को उचित बताते हुए आया. दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा, ‘राजनीति में हम पर अक्सर रोजाना लड़ाई करने का आरोप लगता है, लेकिन हमें लड़ना पड़ेगा, क्योंकि आसानी से काम नहीं करने दिया जाता.’ मनीष सिसोदिया ने आगे कहा कि राजनेताओं को परिवर्तन के लिए उत्प्रेरक बनना होगा, ताकि जनता से किए गए वादे पूरे किए जा सकें. वहीं, इसी कार्यक्रम में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि कुशल राजनेता तलवारबाज या उत्प्रेरक में से किसी एक का चुनाव करने का जोखिम नहीं ले सकता, क्योंकि उसे दोनों ही भूमिकाएं निभानी पड़ती हैं.


‘जहाजों को दक्षिण चीन सागर सहित दुनिया के सभी समुद्रों से गुजरने का अधिकार है.’

— मैल्कम टर्नबुल, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल का यह बयान विवादित दक्षिण चीन सागर में चीनी नौसेना द्वारा ऑस्ट्रेलियाई जहाजों को चुनौती देने पर आया. उन्होंने कहा, ‘हम पूरी दुनिया में नौवहन और उड़ान भरने की आजादी के अधिकार को बरकरार रखेंगे और उसका इस्तेमाल करेंगे.’ चीनी सेना ने वियतनाम जा रहे ऑस्ट्रेलिया के दो जंगी और एक तेल वाहक जहाज को दक्षिण चीन सागर में चुनौती दी थी. हालांकि, अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इस मुठभेड़ के दौरान क्या हुआ था. चीन, दक्षिण चीन सागर पर अपना अधिकार बताता है लेकिन अंतरराष्ट्रीय न्यायालय उसके इस दावे को खारिज कर चुका है.