तमिलनाडु पुलिस ने मोहम्मद रफ़ीक़ नाम के एक व्यक्ति को कोयंबटूर में ग़िरफ़्तार किया है. उस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साज़िश रचने का आरोप है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक रफ़ीक़ और एक ट्रांसपोर्ट कारोबारी प्रकाश के बीच फोन पर हुई बातचीत सोशल मीडिया पर प्रसारित हुई थी. यह बातचीत क़रीब आठ मिनट की है. पुलिस के अनुसार, ‘इसमें शुरूआत में तो सामान्य कामकाजी बातचीत ही सुनाई देती है. लेकिन बीच में अचानक ही रफ़ीक़ यह कहते हुए सुनाई देता है- हमने (प्रधानमंत्री) मोदी को ख़त्म करने का फ़ैसला किया है क्योंकि हम वही हैं जिसने 1998 में उस वक़्त बम धमाके कराए थे जब आडवाणी (पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी) इस शहर में (कोयंबटूर) आए थे.’

कोयंबटूर पुलिस के मुताबिक रफ़ीक़ को 1988 के बम धमाकों से जुड़े मामले में दोषी ठहराया गया था. वह उस मामले में अपनी सजा काट चुका है और फिलहाल कोयंबटूर के कुनियमुतूर में रह रहा है. पुलिस उसकी बातचीत से जुड़ी नई ऑडियो क्लिप की जांच कर रही है. इसके लिए विशेष टीमें बनाई गई हैं. फिलहाल उसे इसी बातचीत के आधार पर ग़िरफ़्तार कर लिया गया है और 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. ग़ौरतलब है कि 1988 के काेयंबटूर बम धमाकों में 58 लोगों की मौत हुई थी. सार्वजनिक-निजी संपत्ति का भी काफ़ी नुक़सान हुआ था.