पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने उत्तर प्रदेश में हुए एक कार्यक्रम के दौरान चौंकाने वाला बयान दिया है. उन्होंने कहा, ‘मैं कांग्रेस का हिस्सा हूं. लिहाज़ा मुझे यह मानना होगा कि हमारे (कांग्रेस के) दामन पर खून के धब्बे हैं.’

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में हुए कार्यक्रम में खुर्शीद से 1984 के सिख दंगों और 1992 के हिंदू-मुस्लिम दंगों (बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के बाद) के बारे में सवाल किया गया था. विश्वविद्यालय के आमिर नाम के एक पूर्व छात्र ने उनसे यह सवाल किया था. इसका ज़वाब देते हुए खुर्शीद ने यह टिप्पणी की. उन्होंने इसके बाद कार्यक्रम में मौज़ूद लोगों को नसीहत भी दी.

सलमान खुर्शीद ने छात्रों को कांग्रेस के इतिहास से सबक सीखने की नसीहत भी दी. उन्होंने कहा, ‘आप हमारे इतिहास से सीखिए. ऐसे हालात मत पैदा कीजिए जिससे कि आप 10 साल बाद जब विश्वविद्यालय में लौटें तो कोई आपसे इस तरह के सवाल करे.’

ग़ौरतलब है कि बीते कुछ दिनों में यह दूसरा मौका है जब सलमान खुर्शीद कांग्रेस पार्टी से अलग लाइन पकड़ते हुए दिखाई दिए हैं. इससे पहले भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा के ख़िलाफ राज्य सभा में महाभियोग प्रस्ताव पेश करने के पार्टी के रुख़ से भी उन्होंने ख़ुद को अलग कर लिया था. उन्होंने इस बाबत उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को दी गई अर्ज़ी पर दस्तख़त करने से भी साफ इंकार कर दिया था.

उधर, कांग्रेस ने सलमान खुर्शीद के बयान से असहमति जताई है. पार्टी प्रवक्ता पीएल पुनिया ने कहा कि कांग्रेस ही सिर्फ एक ऐसी पार्टी है जो समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चली है