गुरुवार को दिल्ली से कर्नाटक का सफर तय करने के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के विमान (चार्टर्ड प्लेन) में तकनीकी खराबी आ गई थी. ख़बरों के मुताबिक़ इस वजह से विमान में झटके लगने शुरू हो गए और वह एक तरफ झुकने लगा. तकनीकी खराबी की वजह से विमान को हुबली हवाईअड्डे पर उतारना पड़ा. हालांकि हुबली हवाईअड्डे पर भी विमान को तीसरे प्रयास में सुरक्षित उतारा जा सका. इस मामले में नागरिक विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने जांच के आदेश दे दिए हैं.

डीजीसीए ने कहा है, ‘जब विमान एक तरफ झुका तो उस वक़्त वह ऑटो मोड पर था. इसी वजह से विमान में ऐसी समस्या आई. इसके बाद पायलट ने विमान को मैन्युअल मोड में बदलकर विमान को सुरक्षित रूप से जमीन पर उतार दिया.’ डीजीसीए ने यह जानकारी भी दी है कि किसी वीआईपी के विमान में होने पर ऑटो मोड को बंद कर दिया जाता है. इस विमान में यह स्थिति कैसे पैदा हुई इसकी जांच के लिए दो सदस्यों की समिति गठित कर दी गई है. यह समिति दो तीन सप्ताह में अपनी रिपोर्ट दे देगी.

उधर राहुल गांधी के विमान में तकनीकी गड़बड़ी के पीछे कांग्रेस ने किसी बड़ी साजिश की शंका जताई है. कांग्रेस ने कर्नाटक पुलिस को इस मामले की शिकायत दे दी है. इसके तहत राज्य के पुलिस महानिदेशक से इस घटना की जांच विभिन्न पहलुओं से कराये जाने की मांग की गई है.

इस घटना की जानकारी मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी से बातचीत की और उनका हाल जाना. इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने डीजीसीए से इस मामले की जांच जल्द से जल्द पूरी करने को कहा है.