प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बैठक की. मध्य चीन के शहर वुहान में हुई इस मुलाकात में दोनों देश आपसी रिश्तों को अगले स्तर तक ले जाने पर सहमत हुए. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने चीनी राष्ट्रपति को अगले साल भारत आने का न्योता भी दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि इस तरह की अनौपचारिक बैठक दोनों देशों के बीच परंपरा बन जानी चाहिए. चीनी राष्ट्रपति ने भी माना कि दोनों देशों के नेताओं को समय-समय पर इस तरह मिलना चाहिए. उनका ये भी कहना था कि भारत और चीन का रिश्ता बीते कुछ सालों के दौरान मजबूत हुआ है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच इस पहली अनौपचारिक शिखर बैठक को रिश्तों में सुधार के लिहाज से अहम माना जा रहा है. बीते साल करीब दो महीने से से भी ज्यादा समय तक चले डोकलाम विवाद के चलते दोनों देशों के बीच तनाव काफी बढ़ गया था. 2014 में सत्ता में आने के बाद से चीन की ये प्रधानमंत्री की चौथी यात्रा है. अगले महीने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए भी वे चीन जाएंगे