सऊदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना ने यमन में हूती विद्रोहियों को निशाना बनाकर बमबारी की है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक शुक्रवार रात सना में यमन के गृह मंत्रालय की एक इमारत को निशाना बनाकर किए गए हमले में कम से कम 38 हूती विद्रोही मारे गए. सऊदी अरब के आधिकारिक न्यूज चैनल अल-अखबारिया ने इस हमले में दो शीर्ष विद्रोहियों के भी मारे जाने की खबर दी है.

उधर, हूती विद्रोहियों ने गठबंधन सेना के हवाई हमले की पुष्टि की है. हालांकि, कोई और जानकारी देने से इनकार कर दिया है. लेकिन स्थानीय निवासियों का कहना है कि गठबंधन सेना ने सना में अन्य जगहों को भी निशाना बनाया है. इनमें नजदा कैंप, डैलमी एयरबेस, राष्ट्रपति महल, जबल अल-नहदीन और इसके मिलिशिया कैंप के साथ आस-पास के इलाके शामिल हैं.

इस बीच शनिवार की सुबह सऊदी अरब की वायु सेना ने जजान प्रांत में हूती विद्रोहियों द्वारा दागी गईं चार मिसाइलों को हवा में ही ध्वस्त करने का दावा किया है. रिपोर्ट के मुताबिक हूती विद्रोहियों के इन हमलों के जवाब में सऊदी अरब ने यमन का जल, वायु और जमीनी संपर्क काट दिया है. इसके अलावा उसे मिलने वाली वित्तीय सहायता के साथ-साथ खाद्यान्न और तेल का आयात पर भी रोक लगा दी है.

यमन में 2014 से गृह युद्ध चल रहा है. ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों का देश बड़े हिस्से पर कब्जा है. उन्हें बेदखल करने के लिए सऊदी अरब के नेतृत्व में गठबंधन सेना ने 2015 से सैन्य अभियान चला रखा है.