मेघालय से अफस्पा हटा | सोमवार, 23 अप्रैल 2018

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मेघालय से सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (अफस्पा)-1958 को हटा लिया है. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार सितंबर 2017 तक मेघालय के 40 फीसदी इलाके में अफस्पा लागू था, लेकिन अब इसे पूरी तरह हटा लिया गया है. वहीं, अरुणाचल प्रदेश के आठ पुलिस स्टेशनों को भी अफस्पा के दायरे से बाहर कर दिया है. 2017 में यहां के 16 पुलिस स्टेशनों में अफस्पा लागू था. गृह मंत्रालय ने सोमवार को इससे जुड़ा गजट नोटिफिकेशन जारी कर दिया है.

अफस्पा के तहत अशांत घोषित होने वाले इलाके पूरी तरह से सेना के नियंत्रण में आ जाते हैं. सेना को उपद्रवियों को निशाना बनाने, उनकी गिरफ्तारी करने और नागरिकों की तलाशी लेने का अधिकार मिल जाता है. गृह मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक इन इलाकों में उपद्रवी हिंसा में 63 फीसदी की कमी आई है. पूर्वोत्तर में अकेले 2017 में नागरिकों की मौतों में 83 फीसदी और सुरक्षाकर्मियों की मौतों में 40 फीसदी की गिरावट आई है. रिपोर्ट के मुताबिक साल 2000 के मुकाबले 2017 में पूर्वोत्तर में उपद्रवी घटनाएं 85 फीसदी घट गईं. वहीं, 1997 की तुलना में सुरक्षाकर्मियों की मौत के मामले 96 फीसदी कम रहे.

कांग्रेस के दामन पर खून के धब्बे हैं : सलमान खुर्शीद | मंगलवार, 24 अप्रैल 2018

पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने उत्तर प्रदेश में हुए एक कार्यक्रम के दौरान चौंकाने वाला बयान दिया है. उन्होंने कहा, ‘मैं कांग्रेस का हिस्सा हूं. लिहाज़ा मुझे यह मानना होगा कि हमारे (कांग्रेस के) दामन पर खून के धब्बे हैं.’

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में हुए कार्यक्रम में खुर्शीद से 1984 के सिख दंगों और 1992 के हिंदू-मुस्लिम दंगों (बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के बाद) के बारे में सवाल किया गया था. विश्वविद्यालय के आमिर नाम के एक पूर्व छात्र ने उनसे यह सवाल किया था. इसका ज़वाब देते हुए खुर्शीद ने यह टिप्पणी की. उन्होंने इसके बाद कार्यक्रम में मौज़ूद लोगों को नसीहत भी दी. सलमान खुर्शीद ने छात्रों को कांग्रेस के इतिहास से सबक सीखने की नसीहत भी दी. उन्होंने कहा, ‘आप हमारे इतिहास से सीखिए. ऐसे हालात मत पैदा कीजिए जिससे कि आप 10 साल बाद जब विश्वविद्यालय में लौटें तो कोई आपसे इस तरह के सवाल करे.’

नाबालिग से बलात्कार के मामले में आसाराम को उम्रकैद | बुधवार, 25 अप्रैल 2018

नाबालिग से बलात्कार के दोषी आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. जोधपुर की एक अदालत ने आसाराम के साथ उनके दो सहयोगियों को भी दोषी ठहराया. शिल्पी और शरद नाम के इन दो सहयोगियों को 20-20 साल की सजा सुनाई गई है. वहीं, दो अन्य आरोपितों को अदालत ने बरी कर दिया. पांच साल पहले आसाराम पर उनके आश्रम में पढ़ने वाली 16 साल की एक नाबालिग लड़की से बलात्कार का आरोप लगा था.

कोर्ट के फैसले के बाद पीड़िता के पिता ने कहा है कि उन्हें न्याय मिला है. उन्होंने कहा, ‘मैं हर उस व्यक्ति का धन्यवाद करना चाहता हूं जिन्होंने इस लड़ाई में हमारा साथ दिया. मुझे उम्मीद है कि इस केस के जिन गवाहों की हत्याएं हुईं उन्हें भी न्याय मिलेगा.’ मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक इस केस में आसाराम के खिलाफ गवाही देने वाले नौ लोगों पर हमले हो चुके हैं. उनमें से तीन गवाहों की मौत भी हो गई थी. उधर, अदालत के फैसले के बाद आसाराम की प्रवक्ता नीलम दुबे का कहना था कि वे कानूनी सलाहकारों की उनकी टीम से बातचीत करने के बाद आगे का फैसला लेंगी.

इंदु मल्होत्रा : देश की पहली महिला वकील जिन्हें सीधे सुप्रीम कोर्ट का जज बनाया जा रहा है | गुरूवार, 26 अप्रैल 2018

सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदु मल्होत्रा के नाम जल्द ही एक रिकॉर्ड दर्ज़ होने वाला है. वे देश की पहली महिला वकील हैं जो सीधे शीर्ष अदालत की न्यायाधीश के तौर पर शपथ लेने वाली हैं. वे शुक्रवार को शपथ ले सकती हैं.

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इंदु मल्होत्रा को सुप्रीम कोर्ट की जज बनाने संबंधी अनुशंसा शीर्ष अदालत के कॉलेजियम ने इस साल 10 जनवरी को की थी. बताया जाता है कि उनकी नियुक्ति को केंद्र सरकार ने हरी झंडी दे दी है. इस बाबत राष्ट्रपति की ओर से वारंट (नियुक्ति पत्र) भी जारी किया जा चुका है. हालांकि इंदु मल्होत्रा के साथ कॉलेजियम ने उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश केएम जोसेफ को भी शीर्ष अदालत का जज बनाने की सिफ़ारिश की थी, लेकिन जोसेफ की फाइल को सरकार ने अब तक रोक रखा है.

जेडीयू से अलग हुए शरद यादव के समर्थकों ने लोकतांत्रिक जनता दल बनाया | शुक्रवार, 27 अप्रैल 2018

जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) से अलग हुए शरद यादव के समर्थकों ने नई पार्टी बना ली है. गुरुवार को उन्होंने नई पार्टी के नाम घोषणा की. पार्टी का नाम लोकतांत्रिक जनता दल (एलजेडी) है. इस दौरान शरद यादव भी मौजूद रहे. हालांकि उन्होंने जोर देते हुए कहा कि अभी वे नई पार्टी के सदस्य नहीं हैं. उन्होंने बताया कि जेडीयू का प्रतिनिधित्व करने का उनका दावा अभी न्यायालय में विचाराधीन है.

घोषणा के दौरान शरद यादव ने कहा कि उनका आशीर्वाद नई पार्टी के साथ है. उधर, एलजेडी की राष्ट्रीय महासचिव सुशीला मोराले ने बताया कि आगामी 18 मई को पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाया जाएगा जिसमें शरद यादव बतौर मार्गदर्शक मौजूद रहेंगे. बता दें कि जेडीयू के चुनाव चिह्न (तीर) का मामला अभी दिल्ली हाई कोर्ट में लंबित है. इससे पहले निर्वाचन आयोग ने पार्टी के चुनाव चिह्न पर शरद यादव के गुट के दावे को खारिज कर दिया था.

शाहजहां का लाल किला अब डालमिया समूह का हुआ! | शनिवार, 28 अप्रैल 2018

मुगल शासक शाहजहां का दिल्ली में बनवाया गया लाल किला अब डालमिया भारत समूह का लाल किला हो गया है. बिजनेस स्टैंडर्ड की खबर के मुताबिक 77 साल पुराने इस समूह ने बेहद कड़े मुकाबले में 25 करोड़ रुपये में इसके रखरखाव का कॉन्ट्रेक्ट जीता है. उसके साथ इस मुकाबले में इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर समूह जैसी दिग्गज कंपनियां भी शामिल थीं. इस सफलता के साथ डालमिया भारत समूह किसी ऐतिहासिक स्थल को गोद लेने वाला देश का पहला व्यापारिक घराना बन गया है.

मोदी सरकार की ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ योजना के तहत डालमिया भारत समूह को 17वीं सदी के लाल किले का यह कॉन्ट्रेक्ट पांच साल के लिए मिला है. इसके तहत उसे तय समय सीमा में यहां पर पर्यटकों के लिए जनसुविधाओं के साथ इसे आकर्षक बनाने के लिए विकास कार्य करने होंगे. डालमिया समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी महेंद्र सिंघी ने बताया कि लाल किले में 30 दिन के भीतर काम शुरू हो जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि यह उपभोक्ता केंद्रित प्रोजेक्ट होगा, जिसके तहत कोशिश होगी कि दिल्ली और एनसीआर के लोग यहां एक बार नहीं, बल्कि बार-बार आएं.