नई दिल्ली स्थित रामलीला मैदान में रविवार को कांग्रेस की जन आक्रोश रैली को अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इस रैली में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कई मुद्दों पर घेरने की कोशिश की. उन्होंने भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, आर्थिक संकट, महिला और दलित असुरक्षा और न्यायपालिका पर हमला जैसे मुद्दों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा. उधर, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इसे जन आक्रोश नहीं बल्कि, परिवार आक्रोश रैली करार दिया है. उन्होंने कहा कि जनादेश ने जिस वंशवाद को सत्ता से बेदखल कर लिया, आज वही जन आक्रोश रैली कर रहे हैं.

भाजपा नेता निर्मल सिंह ने जम्मू-कश्मीर सरकार से इस्तीफा दे दिया है. वे पीडीपी-भाजपा सरकार में उप-मुख्यमंत्री के पद पर थे. यह खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. इस बारे में दैनिक जागरण की मानें तो उनकी जगह विधानसभा अध्यक्ष कविंद्र गुप्ता को उप-मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी दी गई है. दूसरी ओर, निर्मल सिंह अब कविंद्र गुप्ता की जगह विधानसभा अध्यक्ष के पद पर दिखाई देंगे. बताया जाता है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मंत्रिपरिषद में संभावित फेरबदल से पहले भाजपा के नए मंत्रियों की सूची पर मुहर लगा दी है.

मध्य प्रदेश : सिपाही भर्ती के दौरान उम्मीदवारों के सीने पर एससी-एसटी लिखा गया

मध्य प्रदेश के धार जिले में सिपाही भर्ती के लिए उम्मीदवारों के सीने पर स्वास्थ्य जांच के दौरान एससी-एसटी लिख दिया गया. बताया जा रहा है कि ऐसा उनकी पहचान के लिए किया गया. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक यह मामला सामने आने पर प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं. इस बारे में जिला पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए इसे गंभीर मामला बताया है. उधर, गुजरात के ऊना में दलित समुदाय के कुछ परिवारों ने बौद्ध धर्म अपना लिया है. धर्म बदलने के बाद उनका कहना था कि हिन्दुओं ने उन्हें नहीं अपनाया और न ही उनसे सम्मान मिला. इससे पहले साल 2016 में कथित गोरक्षकों के हाथों पिटाई के बाद पीड़ित परिवार ने हिंदू धर्म छोड़ बौद्ध धर्म अपनाने का फैसला लिया था.

कर्नाटक चुनाव : नरेंद्र मोदी, अमित शाह और आदित्यनाथ मिलकर 65 रैलियों को संबोधित करेंगे

कर्नाटक चुनाव में सत्ताधारी कांग्रेस को कड़ी टक्कर देने के लिए भाजपा नेतृत्व अपनी कमर कसता हुआ दिखाई दे रहा है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, पार्टी के स्टार प्रचारक नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ राज्य में कुल मिलाकर 65 चुनावी रैलियां करने वाले हैं. इनमें अमित शाह सबसे अधिक (30) रैलियों को संबोधित करेंगे. दूसरी ओर, आदित्यनाथ 20 और नरेंद्र मोदी 15 रैलियों में कांग्रेस पर निशाना साधते हुए दिख सकते हैं. इसके अलावा बताया जाता है कि जरूरत के मुताबिक नरेंद्र मोदी की रैलियों की संख्या में बढ़ोतरी भी की जा सकती है. कर्नाटक में विधानसभा की 225 में से 224 सीटों के लिए 12 मई को चुनाव होना है. इसके अलावा एक सीट पर आंग्ल-भारतीय (ऐंग्लो-इंडियन) समुदाय के सदस्य को मनोनीत किया जाता है.

प्रधानमंत्री ने सभी गांवों में बिजली पहुंचने का दावा किया, लोगों ने इसे गलत बताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एक ट्वीट के जरिए देश के सभी गांवों में बिजली पहुंचने का दावा किया है. द हिंदू की मुताबिक उन्होंने ट्वीट किया, ‘देश की विकास यात्रा में 28 अप्रैल, 2018 को एक ऐतिहासिक दिन के रूप में याद किया जाएगा. कल (शनिवार) हमने एक वादा पूरा किया है कि जिसके जरिए कई भारतीयों का जीवन हमेशा के लिए बदल जाएगा. मुझे इस बात की खुशी है कि अब भारत के हर गांव में बिजली पहुंच गई है.’ इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त, 2015 को लाल किले की प्राचीर से 1000 दिन के भीतर 18000 से अधिक गांवों में बिजली पहुंचाने का वादा किया था. उधर, प्रधानमंत्री के ट्वीट पर ही कुछ देशवासियों ने सरकार के दावे को गलत बताया है. विश्व बैंक की एक रिपोर्ट (2017) के मुताबिक पूरी दुनिया में एक अरब से अधिक लोगों के पास बिजली की सुविधा नहीं है. इनमें भारत और नाइजीरिया का नाम सबसे ऊपर है.

एस सुधाकर रेड्डी तीसरी बार भाकपा महासचिव चुने गए

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने एस सुधाकर रेड्डी को तीसरी बार महासचिव पद के लिए चुना है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक उन्हें निर्विरोध निर्वाचित किया गया. केरल के कोल्लम में आयोजित 23वीं पार्टी कांग्रेस में 125 सदस्यीय राष्ट्रीय परिषद का भी गठन किया गया है. इसमें जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को भी जगह दी गई है. एस सुधाकर रेड्डी दो बार लोक सभा सांसद रह चुके हैं. इससे पहले साल 2012 में उन्हें पहली बार पार्टी महासचिव चुना गया था.