हिमाचल प्रदेश के कसौली में मंगलवार को एक गेस्ट हाउस के मालिक ने असिस्टेंट टाउन प्लानर शैल बाला शर्मा की गोली मारकर हत्या कर दी. खबरों के मुताबिक शैल बाला शर्मा कसौली के मंडुधर इलाके में मौजूद होटलों और गेस्ट हाउसों के अवैध निर्माण को गिरवाने गई थीं. यहां नारायणी गेस्ट हाउस के मालिक से विजय ठाकुर से उनकी तीखी बहस हो गई. बहस इतनी बढ़ गई कि विजय ठाकुर ने उन पर अपनी लाइसेंसी पिस्तौल तान दी. जान बचाने के लिए शैल बाला ने भागने का प्रयास किया लेकिन इसी दौरान ठाकुर ने उन पर गोली चला दी.

स्थानीय पुलिस के मुताबिक शैल बाला शर्मा को एक गोली छाती पर जबकि दूसरी जबड़े पर लगी. इसके बाद उन्हें फौरन नजदीक के अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. गोली चलने की इस घटना में लोक निर्माण विभाग का एक अन्य अधिकारी भी घायल हुआ है. उसे चंडीगढ़ के पीजीआई अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जाता है कि इस घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस और कई अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में आरोपित विजय ठाकुर घटनास्थल से फरार हो गया.

इस घटना पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए गहरी नाराजगी जताई है. शीर्ष अदालत ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि ऐसी घटना को किसी सूरत में अनदेखा नहीं किया जा सकता. इसके अलावा अदालत ने प्रदेश सरकार को पूरे मामले की रिपोर्ट सौंपने के लिए भी कहा है.

इससे पहले मंगलवार को घटना पर प्रतिक्रिया जताते हुए हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा था, ‘आरोपित को जल्दी ही पकड़कर कानून के सामने पेश किया जाएगा. राज्य में हर कीमत पर कानून-व्यवस्था बरकरार रखी जाएगी. साथ ही अवैध निर्माण से जुड़े शीर्ष अदालत के फैसले का भी पालन होगा.’ उधर स्थानीय पुलिस ने शैल बाला शर्मा की हत्या के आरोपित विजय ठाकुर की सूचना देने वाले के लिए एक लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है.

खबरों के मुताबिक हिमाचल प्रदेश के कसौली में स्थित कुछ होटलों के अनधिकृत निर्माण को तोड़ने के लिए सर्वोच्च न्यायालय ने बीते महीने की 18 तारीख को आदेश दिए थे. तब जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा था कि इस क्षेत्र में हुआ अवैध निर्माण भूस्खलन का कारण बन रहा है और आम लोगों का जीवन सुरक्षित रखने के लिए ऐसे निर्माण को गिरा देना ही उचित रहेगा.