बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल (यूनाइटेड) के प्रमुख नीतीश कुमार को बड़ा झटका लगा है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार वरिष्ठ नेता और विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने बुधवार को पार्टी छोड़ने की घोषणा कर दी है. उदय नारायण चौधरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का समर्थक माना जाता था. वहीं, जदयू के पूर्व प्रदेश युवा अध्यक्ष संतोष कुशवाहा ने भी गुरुवार को पार्टी छोड़ने का ऐलान किया है.

अमर उजाला के मुताबिक उदय नारायण चौधरी ने बिहार सरकार की दलित विरोधी नीतियों को अपने इस्तीफे की वजह बताया है. उन्होंने कहा कि वे अब सांप्रदायिकता के चुंगल से मुक्त हो चुके हैं. इसके साथ उन्होंने जदयू या भाजपा में जाने से भी इनकार किया है. उदय नारायण चौधरी बीते काफी दिनों से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पार्टी से नाराज चल रहे थे. मंगलवार को ही उन्होंने पटना में दलितों के समर्थन में एक मार्च निकाला था. इसके अलावा वे भाजपा के पूर्व नेता यशवंत सिन्हा के पटना में हुए कार्यक्रम में भी काफी सक्रिय दिखाई दिए थे.

न्यूज 18 के मुताबिक पूर्व प्रदेश युवा अध्यक्ष संतोष कुशवाहा का कहना है कि पार्टी में न केवल कार्यकर्ताओं की उपेक्षा हो रही है, बल्कि केवल धन्नासेठों की सुनी जा रही है. इस बीच जदयू ने इन नेताओं के इस्तीफे से पार्टी पर कोई फर्क न पड़ने की बात कही है.