प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11-12 मई को पड़ोसी देश नेपाल की यात्रा पर रहेंगे. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस यात्रा के दौरान वे अयोध्या और जनकपुर के बीच सीधी बस सेवा शुरू किए जाने की घोषणा कर सकते हैं. हिंदू धर्मग्रंथ ‘रामायण’ में भारत के अयोध्या को राम जबकि नेपाल के जनकपुर को सीता का जन्मस्थान कहा गया है. राम और सीता के जन्मस्थान मानी जाने वाली इन जगहों के बीच सीधी बस सेवा शुरू किए जाने को अगले साल होने वाले आम चुनाव में मतदाताओं को लुभाने की कवायद भी माना जा रहा है.

जनकपुर में कुछ विकास परियोजनाओं के लिए भारत की तरफ से वित्तीय मदद की घोषणा भी की जा सकती है. जनकपुर के अलावा नरेंद्र मोदी वैष्णव सम्प्रदाय के मुक्तिनाथ मंदिर भी जाएंगे. बताया गया है कि प्रधानमंंत्री 12 मई की सुबह इस मंदिर में दर्शन और पूजा-अर्चना करेंगे. इसी दिन कर्नाटक में राज्य विधानसभा चुनाव के लिए मतदान भी होना है. इसके बाद नरेंद्र मोदी और नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली 900 मेगावॉट की अरुण-3 नाम की एक बिजली परियोजना का उद्घाटन करेंगे.

सूत्रों के हवाले से इंडियन एक्सप्रेस ने यह भी लिखा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस यात्रा के दौरान काठमांडू और बिहार के रक्सौल के बीच रेल सेवा को लेकर भी कोई घोषणा हो सकती है. इसके अलावा दोनों देश कृषि के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने और नेपाल में भारतीय निवेशकों की सुरक्षा के मुद्दे पर भी चर्चा करेंगे. इससे पहले बीते महीने नेपाली प्रधानमंत्री ने भारत यात्रा की थी. अब नरेंद्र मोदी की इस यात्रा को दोनों देशों के रिश्ते को और मजबूत करने वाला कदम माना जा रहा है.