आज महाराणा प्रताप की जयंती है और सोशल मीडिया पर खासकर राजनीति से जुड़े लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए प्रतिक्रियाएं दर्ज की हैं. वहीं दूसरी तरफ महाराणा प्रताप का नाम आज एक और घटना की वजह से यहां सुर्खियां बटोर रहा है. मीडिया में आई खबरों के मुताबिक नई दिल्ली में स्थित अकबर रोड के साइन बोर्ड पर आज कुछ अज्ञात लोगों ने ‘महाराणा प्रताप रोड़’ लिखे पोस्टर चिपका दिए थे. सोशल मीडिया में इन साइन-बोर्डों की तस्वीरें कई लोगों ने शेयर की हैं.

कुछ खबरों के मुताबिक यह हरकत बजरंग दल के सदस्यों की है. वहीं बीते सालों में केंद्रीय मंत्री वीके सिंह सहित भाजपा के कई बड़े नेता भी इस रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप रोड करने की मांग कर चुके हैं. आज सोशल मीडिया में भाजपा समर्थकों ने साइन बोर्ड पर लगे इस पोस्टर की तस्वीर शेयर करते हुए इस मांग के पक्ष में खूब टिप्पणियां की हैं. फेसबुक पर एक ऐसी ही मजेदार पोस्ट है, ‘अकबर रोड को महाराणा प्रताप रोड कर दिया गया है... मोदी जी ने साथ दिया तो जल्दी ही पाकिस्तान को प्रतापनगर कर देंगे...’

फेसबुक और ट्विटर पर एक बड़े तबके ने इस घटना की आलोचना भी की है. राहुल राज का ट्वीट है, ‘हम 2018 में जी रहे हैं... लेकिन आधा देश अब तक महाराणा प्रताप, अकबर, शिवाजी, बाबर में ही अटका हुआ है.’ इस मामले का एक मजेदार पक्ष यह है कि पोस्टर में रोड की जगह ‘रोड़’ लिखा हुआ था. सोशल मीडिया में इस पर भी लोगों ने तंजभरी टिप्पणियां की हैं. अंकित राज की फेसबुक पोस्ट है, ‘जिन्हें रोड लिखना नहीं आता, वो रोड का नाम बदलने चले हैं.’

सोशल मीडिया में इस घटना पर आईं कुछ और प्रतिक्रियाएं :

एफवाईआई | @ NairFYI

अगर महाराणा प्रताप का सम्मान करना चाहते हैं तो एक सबसे अच्छी (नई) रोड बनाएं और फिर उसका नाम महाराणा प्रताप रोड रखें. नाम बदलने की यह नौटंकी तो बेकार की कवायद है...

अक्षय कुमार | @kumarakshay1

अकबर रोड पर सिर्फ हिंदुओं को दचके महसूस होंगे... महाराणा प्रताप रोड पर सिर्फ मुसलमानों को दचके महसूस होंगे.

किरण कुमार | facebook/kirankumar.khurana

महाराणा प्रताप रोड लिखा पोस्टर अकबर रोड के साइन बोर्ड पर चिपकाया गया है. मोदी के लोग सिर्फ इसी तरह का बदलाव कर सकते हैं... इसी तरह का ‘विकास’