गूगल आज अपने डूडल के जरिये भारत की प्रसिद्ध शास्त्रीय नृत्यांगना मृणालिनी साराभाई का 100वां जन्मदिन मना रहा है. डूडल में मृणालिनी साराभाई द्वारा 1949 में शुरू किया गया दर्पण एकेडमी ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स ऑडिटोरियम दिखाया गया है जिसमें उनकी छात्राएं नृत्य कर रही हैं.

मृणालिनी साराभाई का जन्म 11 मई, 1918 को केरल में हुआ. उनके पिता मद्रास हाई कोर्ट में वकील थे और मां सामाजिक कार्यकर्ता थीं. उनके तीन बच्चों में मृणालिनी सबसे छोटी थीं. 1942 में मृणालिनी की भारत के प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी विक्रम साराभाई से शादी हुई.

मृणालिनी साराभाई ने नृत्य का पूरा अभ्यास युवा आयु में शुरू किया. उन्होंने भरतनाट्यम और कथकली दोनों का प्रशिक्षण लिया. 1949 में उन्होंने पेरिस में नृत्य कर खूब प्रशंसा बटोरी. कहते हैं कि उसके बाद मृणालिनी को नृत्य के लिए दुनियाभर से बुलावे आने लगे. आगे चलकर 1965 में उन्हें पद्म श्री और 1992 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. 1994 में उन्हें संगीत नाटक अकादेमी फेलोशिप, जिसे संगीत नाटक अकादेमी रत्न सदस्य भी कहा जाता है, से नवाजा गया.

मृणालिनी साराभाई केरल की पहली नागरिक थीं जिन्हें राज्य सरकार द्वारा सालाना दिया जाने वाला पुरस्कार ‘निशागांधी पुरस्करम’ दिया गया था. साल 2013 में उन्हें यह पुरस्कार मिला था. एक प्रसिद्ध नृत्यांगना के अलावा मृणालिनी साराभाई एक कवियित्री, लेखक और पर्यावरणविद् भी थीं. 21 जनवरी, 2016 को 97 वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया.