आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) के एक वरिष्ठ स्वयंसेवक ने आरोप लगाया है कि संघ अपनी विश्वसनीयता खो चुका है. इन स्वयंसेवक का नाम एन हनुमे गौड़ा है. ये कर्नाटक से ताल्लुक़ रखते हैं और तीन दशक तक संघ से जुड़े रहे हैं.

कर्नाटक विधानसभा चुनाव का प्रचार ख़त्म होने के एक दिन पहले गौड़ा ने मीडिया के प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए आरोप लगाया कि संघ इन दिनों हर तरह के वित्तीय और नैतिक भ्रष्टाचार में लिप्त हो गया है. संघ के तमाम पदाधिकारी उसके मौलिक मूल्यों से दूर हो चुके हैं. उनके मुताबिक, ‘आज न सिर्फ़ संघ बल्कि आरएसएस से भाजपा में आए नेता भी भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद और वंशवादी राजनीति में लिप्त हो गए हैं. भाजपा जो आरोप कांग्रेस पर लगाती है वही अब उस पर खुद और संघ पर भी लागू होते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘भाजपा नेता बीएस येद्दियुरप्पा के पुत्र, जगदीश शेट्‌टार के बेटे, मुर्गेश नीरानी के भाई और कई अन्य भाजपा नेताओं की संतानें आज राजनीति में हैं. यह वंशवाद नही तो क्या है? यही नहीं येद्दियुरप्पा, शेट्‌टार, अनंत कुमार हेगड़े, शोभा कारंदलाजे जैसे नेता आज करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं. ये पैसा उनके पास कहां से आया? क्योंकि पहले तो ये लोग इतने धनी नहीं थे.’ उनका आरोप यह भी था कि भाजपा और आरएसएस के लोग ज़मीनें कब्ज़ाने में भी जुटे हुए हैं.

उन्होंने ऐलान किया कि वे जल्द ही संघ की सदस्यता छोड़ देंगे. उन्होंने स्थानीय बाबलेश्वर विधानसभा सीट के शिवसेना प्रत्याशी संगय्या हीरेमथ का समर्थन करने की भी घोषणा की. मीडिया से बातचीत के दौरान हीरेमथ उनके साथ थे.