उत्तर कोरिया ने कहा है कि अब बिना पूर्व घोषणा के वह मिसाइल परीक्षण नहीं करेगा. द टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक शुक्रवार को उत्तर कोरिया के अधिकारियों ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की संस्था अंतरराष्ट्रीय नागरिक विमानन संगठन (आईसीएओ) के प्रतिनिधियों के सामने इस संबंध में शपथ ली है. उत्तर कोरिया के विमानन प्रशासन ने उप महानिदेशक ने कहा है, ‘उत्तर कोरिया का परमाणु हथियार कार्यक्रम अब पूरा हो चुका है. अंतर महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) से जुड़े सभी परीक्षण भी किए जा चुके हैं. ऐसे में अब देश को और परीक्षण करने की जरूरत नहीं है.’

उधर आईसीएओ की तरफ से भी इस संबंध में बयान जारी किया गया है. इसके मुताबिक अब उत्तर कोरिया चाहता है कि उसकी हवाई सेवाओं पर लगी रोक हटा दी जाए. इसकी यह इच्छा भी है कि उसके विमानों को दक्षिण कोरिया के आसमान से होकर उड़ने की इजाजत मिले.

यह खबर ऐसे समय पर आई है जब उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच 12 जून को सिंगापुर में बैठक पक्की हो चुकी है. अब मिसाइल परीक्षणों को लेकर उत्तर कोरिया के ताजा फैसले के बाद माना जा रहा है कि इससे कोरियाई प्रायद्वीप में शांति बहाल होने की प्रक्रिया और मजबूत होगी.