नेपाल की यात्रा के दूसरे दिन शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुक्तिनाथ मंदिर में पहुंचकर पूजा-अर्चना की. नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ‘ओली’ की ओर से जारी बयान में बताया गया कि मुक्तिनाथ घाटी में स्थित इस मंदिर तक पहुंचने वाले नरेंद्र मोदी दुनिया के पहले नेता हैं.

ख़बरों के मुताबिक मोदी ने मुक्तिनाथ मंदिर की यात्रा के दौरान बौद्ध संप्रदाय की परंपरागत ड्रेस पहनी हुई थी. उन्होंने यहां हिंदू और बौद्ध रीति से प्रार्थना की. साथ ही परिसर में मौज़ूद लोगों से बातचीत भी की. यह मंदिर हिंदू और बौद्ध दोनों ही संप्रदायों के लिए बड़े धार्मिक महत्व का स्थल माना जाता है. ख़बर है कि प्रधानमंत्री शनिवार को भारत रवाना होने से पहले काठमांडू के पशुपतिनाथ मंदिर भी जाएंगे. वहां भी वे पूजा-अर्चना करेंगे.

बताया जाता है कि दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों ने शुक्रवार को पहले सीधी बातचीत की. फिर प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हुई. इसमें तय किया गया कि दोनों देश आपस के सभी मसलों को इस साल 19 सितंबर तक सुलझा लेंगे. यहां बताना ज़रूरी है कि 19 सितंबर को नेपाल के ‘संविधान दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. प्रधानमंत्री मोदी ने नेपाल के जनकपुर के विकास के लिए भारत की ओर से 100 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद देने की भी घोषण की है.