सेना ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा के मौजूदा अध्यक्ष और भाजपा नेता निर्मल सिंह को एक पत्र लिखकर उनसे अपने निर्माणाधीन घर का काम रोकने की अपील की है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सेना का तर्क है कि नगरोटा में उसका गोला-बारूद का ​एक डिपो है और यह घर उसके काफी नजदीक बन रहा है. ऐसे में इस डिपो और घर में रहने वालों की सुरक्षा को देखते हुए यहां घर बनाना अनुचित होगा. साथ ही इस पत्र में रक्षा मंत्रालय के 2002 के एक नोटिफिकेशन और कानूनों का हवाला देते हुए कहा गया है कि यह निर्माण गैर-कानूनी भी है. निर्मल सिंह को यह पत्र थलसेना की 16वीं कोर के लेफ्टिनेंट जनरल सरनजीत सिंह ने इसी साल 19 मार्च को लिखा था.

सेना के ही अन्य अधिकारी ने बताया है कि इस घर का निर्माण रुकवाने के लिए सेना ने स्थानीय प्रशासन से संपर्क किया था लेकिन वहां से इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. बताया जाता है कि निर्मल सिंह और राज्य के मौजूदा उपमुख्यमंत्री कविंदर गुप्ता ने इस इलाके में साल 2014 में जमीन खरीदी थी.

घर का निर्माण रुकवाए जाने के इस पूरे मामले को निर्मल सिंह ने राजनीति से प्रेरित कदम बताया है. उन्होंंने कहा है, ‘जिस जमीन पर मैं घर बनवा रहा हूं वह मेरी पत्नी के नाम पर है. दो हजार वर्ग मीटर के इस प्लॉट को हिमगिरी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट लिमिटेड नाम की कंपनी से खरीदा गया था. यहां निर्माण रोके जाने को लेकर कोई कानूनी निर्देश नहीं है. फिर भी सेना सुरक्षा के नाम पर निर्माण रुकवाना चाहती है.’ उन्होंंने आगे कहा है, ‘यह मेरी संपत्ति है इसलिए मैं इच्छानुसार इसका इस्तेमाल कर सकता हूं.

उधर कविंदर गुप्ता ने पुष्टि की है कि नगरोटा के गोला-बारूद डिपो के पास ही उनका भी एक प्लॉट है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि फिलहाल वे इस पर कोई निर्माण नहीं करा रहे हैं. जब उनसे इस क्षेत्र में निर्माण पर सेना की आपत्ति के बारे में सवाल किया गया तो इस पर उन्होंने कोई टिप्पणी करने से इनकार ​कर दिया.