उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के लोग इन दिनों खूंखार कुत्तों के हमलों से काफी ज्यादा परेशान और डरे हुए हैं. रविवार को जिले के खैराबाद गांव में कुत्तों ने एक 10 साल की बच्ची की जान ले ली. पिछले साल नवंबर से रविवार की घटना तक ऐसी 13 घटनाएं हो चुकी हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इनमें से सात इसी महीने हुई हैं.

खबर के मुताबिक 10 साल की रीना तीन अन्य लड़कियों के साथ रविवार की सुबह एक आम के बगीचे में गई थी. कुछ ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि वहां कुत्तों के झुंड ने चारों लड़कियों पर हमला कर दिया था. सूचना मिलने पर गांव के लोग तुरंत घटनास्थल पर पहुंचे और किसी तरह तीन लड़कियों को बचाया. लेकिन रीना को कुत्तों ने बुरी तरह जख्मी कर दिया था. उसे नहीं बचाया जा सका. बाद में लोगों ने उसके पिता को घटना की खबर दी.

इस घटना के बाद सीतापुर के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. वे लाठियां लेकर नेशनल हाइवे-24 पहुंच गए और वहां रीना का शव रखकर प्रदर्शन किया. कुछ लोगों ने पत्थरबाजी भी शुरू कर दी. उन्हें हटाने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा. उधर, पीड़िता के एक रिश्तेदार ने कहा कि प्रशासन इस मामले में सो रहा है, लिहाजा उन्हें ही कानून हाथ में लेकर कुत्तों को मारना होगा.

दो दिन पहले ही प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिले का दौरा कर गुस्साए लोगों से शांत रहने की अपील की थी. उन्होंने प्रशासन को आदेश दिया था कि वह इस संकट को दूर करे. ताजा घटना के बाद जिला प्रशासन ने बड़ों को साथ लिए बिना बच्चों के बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगा दिया है. सीतापुर की जिला मजिस्ट्रेट शीतल वर्मा ने बताया कि ब्लॉक विकास अधिकारी, ग्राम प्रधान, लेखपाल, डॉक्टर, अध्यापक और अन्य यह सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी बच्चा किसी बड़े व्यक्ति के बिना बाहर न निकले.