कर्नाटक में बहुमत का पेंच फंसता दिख रहा है. अब तक के नतीजों और रुझानों को देखें तो भाजपा सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद 106 के आंकड़े पर रुकती नजर आ रही है. उधर, कांग्रेस को 77 और जेडीएस को 37 सीटें मिलती दिख रही हैं. यानी अगर वे दोनों मिल जाएं तो सरकार बनाने के लिए जरूरी 113 का आंकड़ा पार कर सकती हैं. यही वजह है कि कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है. पार्टी नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कहा, ‘हमारी देवगौड़ा जी और कुमारस्वामी से बात हुई है. मुख्यमंत्री पद के लिए जेडीएस जिसे भी चुनेगी, कांग्रेस उसे समर्थन देगी.’ जेडीएस ने भी उनकी यह पेशकश स्वीकार कर ली है. बताया जा रहा है कि उपमुख्यमंत्री कांग्रेस का हो सकता है और इसके लिए दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाले किसी नेता को चुना जा सकता है.

उधर, बदलते हालात को देखते हुए खबर है कि भाजपा अमित शाह ने पार्टी नेताओं जेपी नड्डा, धर्मेंद्र प्रधान और प्रकाश जावड़ेकर को तत्काल बेंगलुरु पहुंचकर सरकार बनाने की संभावनाएं तलाशने के लिए कहा है. बताया जा रहा है कि भाजपा अध्यक्ष ने येदियुरप्पा को भी राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए कहा है.