दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल में कैदियों के पार्टी करने का मामला सामने आया है. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक बीती छह मई को यह पार्टी हुई थी. जेल के अधिकारी इसकी जांच कर रहे हैं. प्राप्त जानकारी के मुताबिक चार कैदियों ने अधीक्षक कार्यालय के पास वाले कमरे में पार्टी की थी. इनमें से दो के खिलाफ अभी सुनवाई चल रही है. अखबार ने बताया कि पार्टी करने वाले कैदियों ने जेल के कुछ पुलिसकर्मियों को खाना परोसने के काम पर रखा था. यह खाना जेल के बाहर से मंगाया गया था. बाद में वरिष्ठ अधिकारियों ने उन्हें पकड़ा.

खबर के मुताबिक दोनों अंडरट्रायल कैदियों को सुप्रीम कोर्ट के विशेष आदेश पर जेल अधीक्षक के कार्यालय के पास एक कमरे को अपने कार्यालय के रूप में इस्तेमाल करने की अनुमति मिली हुई थी. दोनों अंडरट्रायल कैदी एक रियल-एस्टेट फर्म के सदस्य हैं और कई लोगों से धोखाधड़ी करने के आरोपित हैं. उन्हें जेल में बने कार्यालय में अपनी फर्म से जुड़े लोगों से मिलने की इजाजत थी. इसी का फायदा उठाकर उन्होंने वहां पार्टी की. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कुछ जेल वॉर्डनों को अंडरट्रायल कैदियों को खाना परोसते देखा था जिसके बाद इसकी रिपोर्ट अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई.

जेल के अधिकारियों का कहना है कि दोनों कैदियों ने कोर्ट की तरफ से मिली सुविधा का फायदा उठाया और जेल परिसर के बाहर से खाना मंगवाया. उन्होंने बताया कि दोनो कैदियों का ड्राइवर कुछ कागज और खाना लाया था. इस बात की जांच के आदेश दिए गए हैं कि ड्राइवर अनुमति के बिना खाना अंदर कैसे ले गया. जेल परिसर में मांसाहारी खाना लाने की मनाही है. जेल अधिकारी जांच कर रहे हैं कि सुरक्षा के तहत होने वाली चेकिंग के बावजूद यह खाना अंदर कैसे आ गया. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जेल में हुई पार्टी की जांच करने के अलावा कोर्ट को भी इसकी जानकारी दी जाएगी. वहीं, दोनों अंडरट्रायल कैदियों को एक वरिष्ठ अधिकारी की निगरानी में बैठकें करने को कहा गया है.