कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के लिए कांग्रेस ने ईवीएम को दोष देना शुरू कर दिया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक पार्टी के नेता मोहन प्रकाश ने कहा, ‘मैं पहले दिन से कह रहा हूं. भारत का कोई राजनीतिक दल नहीं है जिसने ईवीएम पर सवाल न उठाया हो. यहां तक कि भाजपा भी बहुत पहले ऐसा कर चुकी है. जब सभी दल ईवीएम पर सवाल उठा रहे हैं तो भाजपा को बैलेट पेपर से चुनाव कराने में क्या दिक्कत है.?’

मोहन प्रकाश के बयान से साफ है कि वे इन नतीजों के लिए ईवीएम को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. हालांकि उन्हीं की पार्टी के नेता और कर्नाटक के मंत्री डीके शिवकुमार का कुछ और कहना है. पार्टी की तय मानी जा रही हार पर उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी ने पूरी कोशिश की. लेकिन यह चुनाव हम हारे हैं. हम स्थानीय नेताओं को बेहतर फायदा उठाना चाहिए था. इसी वजह से हम हारे हैं.’

उधर, चामुंडेश्वरी सीट पर मुख्यमंत्री सिद्धारमैया से आगे चल रहे जेडीएस उम्मीदवार जीटी देवेगौड़ा ने कहा, ‘लोगों ने सिद्धारमैया को खारिज कर दिया है. वे अपने रवैये, गलतबयानी और हर किसी पर हमला करने के व्यवहार के चलते हारे.’ उधर, भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कर्नाटक के लोग अच्छा शासन चाहते हैं, इसलिए उन्होंने भाजपा को चुना. पार्टी की जीत पर खुशी जताते हुए जावड़ेकर ने कहा, ‘कांग्रेस एक के बाद एक राज्य हार रही है और भाजपा जीत रही है.’