पाकिस्तान ने सोमवार रात को एक बार फिर संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए सीमावर्ती इलाकों में भारी गोलाबारी की है. डेक्कन क्रॉनिकल के मुताबिक पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में नियंत्रण रेखा की अगली चौकियों को निशाना बनाया. सेना के एक अधिकारी के मुताबिक पाकिस्तान के इस हमले का भारतीय सेना ने भी माकूल जवाब दिया. दोनों तरफ से करीब एक घंटे तक भीषण गोलाबारी हुई. इसी दौरान मांगुचक इलाके में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक जवान को गोली लग गई. उसे फौरन अस्पताल ले जाया गया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका.

सेना के एक अधिकारी के अनुसार सीमा पार से हुई इस गोलाबारी से लगभग चौबीस घंटे पहले बीएसएफ के जवानों ने कठुआ जिले के हीरानगर में पांच लोगों के एक समूह की संदिग्ध गतिविधियां देखी थीं. इन लोगों के आतंकवादी होने का संदेह जताया जा रहा है. ऐसे में इनकी तलाश के लिए विशेष अभियान चलाया गया है. सोमवार के साथ मंगलवार को भी यह अभियान जारी रहा. इस बीच 19 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जम्मू-कश्मीर यात्रा को देखते हुए जम्मू में यह तलाश तेज कर दी गई है साथ ही अलर्ट भी घोषित कर दिया गया है.

इस साल अब तक पाकिस्तान 700 से भी ज्यादा बार सीमा पार से गोलाबारी कर चुका है. गोलीबारी की इन घटनाओं से नियंत्रण रेखा के करीब के गांवों में रहने वाले लोगों को राज्य के दूसरे इलाकों में शरण लेनी पड़ी है. इसके अलावा इन घटनाओं में इस साल अब तक 17 जवान शहीद हो चुके हैं.