उत्तर प्रदेश के वाराणसी में निर्माणाधीन फ्लाईओवर का एक हिस्सा गिर गया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार मंगलवार को हुए इस हादसे में 18 लोग मारे गए हैं, जबकि 12 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है, इसलिए मृतकों की संख्या बढ़ सकती है. राहत-बचाव कार्य में राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की सात टीमों को लगाया गया है. यह फ्लाईओवर वाराणसी कैंट स्टेशन के पास बन रहा था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने इस हादसे पर शोक जताया है. इसके अलावा मुख्यमंत्री नेमृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों को दो लाख रुपये देने की घोषणा की है. खबरों के मुताबिक मुख्यमंत्री आदित्यनाथ इस हादसे में घायल लोगों से मिलने के लिए वाराणसी रवाना हो चुके हैं.

इस बीच उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य वाराणसी पहुंच गए हैं. उन्होंने बताया कि इस हादसे की जांच के लिए एक समिति बनाई गई है जो 15 दिन में सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी. उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने फ्लाईओवर से जुड़े चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर एससी तिवारी, प्रोजेक्ट मैनेजर केआर सूदन, सहायक इंजीनियर राजेश सिंह और इंजीनियर लाल चंद को तत्काल प्रभाव से निलंबित किए जाने की भी जानकारी दी.