अगर आप सलमान खान के फैन हैं तो हो सकता है कि इस आलेख के टाइटल और इंट्रो पर आपको थोड़ी आपत्ति हो. आपको लग सकता है कि ऐसा सलमान खान की आलोचना करते हुए लिखा गया है, जो कि काफी हद सही भी है. लेकिन इसके बावजूद इसमें छिपी प्रशंसा पर भी आपका ध्यान जाना चाहिए. दरअसल, यह एक पंक्ति सिनेमा में सलमान खान का कद बताने के लिए काफी है. यह बताती है कि सलमान खान की फिल्मों को अब किसी जॉनर में फिट होने की जरूरत नहीं है, वे अब अपने आप में एक विधा, एक जॉनर में तब्दील हो चुके हैं. रेस 3 का ट्रेलर भी आपको यही बताता है.

ट्रेलर में क्या है, इसकी बात करें तो धांय-धांय कर चलती गोलियां हैं, ‘अल्ला दुहाई है’ का बहुत ऊंचा शोर करता संगीत है, कुछ बनावटी से लगने वाले संवाद हैं, विदेशी लोकेशन्स हैं और कई सारे जाने-पहचाने चेहरों वाली एक लंबी-चौड़ी स्टारकास्ट है. इन सबके होने की वजह बताना मुश्किल है क्योंकि कहानी के नाम पर आपको कुछ भी समझ नहीं आता. हां, यहां पर आप कुछ कीवर्ड्स जरूर पकड़ सकते हैं जैसे – फैमिली, बिजनेस, दुश्मन इत्यादि. इनकी मदद से आप जो अंदाजा लगा सकते हों, लगा लीजिए. यहां पर जानने वाली बात यह भी है कि रेस 3 के निर्देशक रेमो डि’सूजा हैं. उनकी और सलमान की फिल्मों में कहानी का न होना एक कॉमन फैक्टर है और यह बात इस ट्रेलर रिलीज के साथ ध्यान में रखना दर्शकों के हित में होगा.

कॉमन फैक्टर की बात निकली है और रेस फ्रेंचाइजी की फिल्मों की बात निकलनी ही है तो इन दोनों बातों को ध्यान में रखते हुए इस बात का जिक्र करना जरूरी हो जाता है कि रेस, रेस 2 और रेस 3 में कॉमन फैक्टर केवल अनिल कपूर हैं. बाकी सारे चेहरे बदले हुए हैं, जैसे - जैक्लीन फर्नांडिस, डेजी शाह और बॉबी देओल. ये ट्रेलर में अपने-अपने हिस्से के संवाद बोलते और उसे आगे बढ़ाते दिखते हैं. यहां पर साकिब सलीम जैसे नए और अच्छे अभिनेता को देखकर आपको आश्चर्य जरूर होता है और आप बस यही समझ पाते हैं कि उन्हें इस किरदार के लिए कुछ ज्यादा पैसे मिले होंगे.

कुल मिलाकर, तीन मिनट नौ सेकंड का यह अतिलंबा ट्रेलर देखने के बाद आप सिर्फ यही सोचते हैं कि 15 जून को ईद के मौके पर रिलीज होने वाली सलमान खान की रेस 3 कितने सौ करोड़ कमाने वाली है!

Play