दुनिया के सबसे धनी-मानी मंदिरों में से एक आंध्र प्रदेश का तिरुपति बालाजी. इस मंदिर के मुख्य पुजारी एवी रामना दीक्षितुलु ने आरोप लगाया है कि भगवान तिरुपति बालाजी का ख़जाना भ्रष्टाचार और अनियमितता का शिकार हो रहा है.

चेन्नई में मीडिया के प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए दीक्षितुलु ने बताया, ‘तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) के प्रशासक मंदिर की पवित्रता और उसका मूल लोकाचार बरक़रार नहीं रख पा रहे हैं. हमें संदेह है कि मंदिर के कोष का पैसा कहीं और जा रहा है. भगवान के कई पुराने आभूषणों का भी कुछ अता-पता नहीं है. और इस पर यह बड़े दुर्भाग्य की बात है कि पीढ़ियों से भगवान की सेवा-पूजा करते आ रहे हम लोग आज कुछ भी कर पाने में ख़ुद को असहाय महसूस कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘पहले 1996 तक जब हम लोग भगवान के आभूषणों और कोष के संरक्षक थे ताे पूरा रिकॉर्ड दुरुस्त रखा जाता था. लेकिन पिछले 22 सालों में जब से टीटीडी के ज़रिए आंध्र सरकार के पास यह ज़िम्मेदारी आई है, कोई रिकॉर्ड नहीं रखा जा रहा है. भगवान काे सिर्फ़ नए आभूषण पहनने के लिए दिए जा रहे हैं. नए-पुराने आभूषणों की गिनती एक बार भी नहीं हुई. लिहाज़ा इस सबका खुला ऑडिट होना चाहिए. पारदर्शिता क़ायम करने के लिए डिजिटल रिकॉर्ड तैयार किया जाना चाहिए.’