अमेरिका के बाद अब उसके पड़ोसी देश ग्वाटेमाला ने भी अपना नया दूतावास यरुशलम में खोल दिया है. खबरों के मुताबिक तेल अवीव से दूतावास को यरुशलम ले जाने की यह प्रक्रिया बुधवार को पूरी की गई. इससे पहले अमेरिका ने इसी हफ्ते सोमवार को यरुशलम में अपने नए दूतावास का उद्घाटन किया था. इसके बाद इस शहर में अपना दूतावास खोलने वाला ग्वाटेमाला दुनिया का दूसरा देश बन गया है.

उधर दूतावास स्थानांतरित करने के लिए इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ग्वाटेमाला के राष्ट्रपति जिमी मोराल्स का आभार जताया है. उन्होंने कहा है, ‘शुरुआत में निर्णय करने वाले देशों में ग्वाटेमाला हमेशा अव्वल रहा है. इस मौके पर दोनों देश एक बार फिर दशकों पुरानी अपनी दोस्ती को याद कर रहे हैं.’ उधर इन दोनों देशों के बाद पराग्वे ने कहा है कि वह भी जल्दी ही अपना दूतावास तेल अवीव से यरुशलम ले जाएगा.

इससे पहले बीते साल दिसंबर में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने यरुशलम को इजरायल की राजधानी स्वीकार करते हुए अपना दूतावास यहां ले जाने की घोषणा की थी. तब कई अरब देशों ने डोनाल्ड ट्रम्प की इस घोषणा का विरोध करने के साथ इसकी आलोचना भी की थी.

यरुशलम कई दशकों से फिलिस्तीन और इजरायल के बीच विवाद का विषय रहा है. साल 1967 में इस शहर के पूर्वी हिस्से पर इजरायल ने अपना कब्जा जमा लिया था. हालांकि इजराइल के कब्जे वाले हिस्से को अब तक अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मान्यता नहीं मिली है.