कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येद्दियुरप्पा का दावा है, ‘राज्यपाल ने मुझे बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया है. लेकिन उन्हें इतना इंतज़ार नहीं करना होगा. हम जल्द ही विधानसभा सत्र बुलाकर बहुमत साबित कर देंगे. इसका मुझे 100 फ़ीसदी भरोसा है.’ और उनके इस दावे का आधार क्या है, ये देखिए. ख़बरों के मुताबिक उन्होंने मुख्यमंत्री का पद संभालने के 24 घंटे के भीतर ही अहम पुलिस-प्रशासनिक अफसरों के तबादले किए हैं. इनमें सबसे ख़ास राज्य पुलिस की खुफ़िया इकाई के प्रमुख का पद है.

ख़बरों के मुताबिक येद्दियुरप्पा ने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अमर कुमार पांडे को ख़ुफ़िया इकाई का प्रमुख बनाया है. पांडे कई बड़े भाजपा नेताओं के क़रीबी बताए जाते हैं. उनके अलावा उपमहानिरीक्षक संदीप पाटिल को भी ख़ुफ़िया इकाई में भेजा गया है. आदेश जारी होते ही दोनों ने नई ज़िम्मेदारी संभाल भी ली है. बताया जाता है कि इन अफ़सरों के ज़रिए अब येद्दियुरप्पा कांग्रेस-जेडीएस (जनता दल-धर्मनिरपेक्ष) विधायकों के पल-पल की ख़ोज-ख़बर अपने पास रखने वाले हैं. ये अफसर भाजपा नेताओं के विश्वस्त बताए जाते हैं.

इनके अलावा चिकमंगलुरु जिले के पुलिस अधीक्षक के अन्नामलाई को रामनगर जिले में तैनात किया गया है. कांग्रेस-जेडीएस के विधायक हैदराबाद और कोच्चि रवाना होने से पहले जिस ईगलटन रिज़ॉर्ट में ठहराए गए थे वह इसी जिले में आता है. जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी भी चन्नापटना के अलावा रामनगर से ही चुने गए हैं. इसे भी अन्नामलाई की तैनाती से जोड़ा जा रहा है. दो आईएएस अफसरों- एम लक्ष्मीनारायणा और वीपी इक्केरी को मुख्यमंत्री कार्यालय में तैनात किया गया है. पीके नवदागी को महाधिवक्ता बनाया गया है.