कर्नाटक में मुख्यमंत्री बीएस येद्दियुरप्पा के बहुमत परीक्षण से पहले कांग्रेस की चिंता बढ़ गई है. इसकी वजह यह है कि पार्टी के दो विधायक सदन में नहीं पहुंचे हैं. ये विधायक हैं प्रताप गौड़ा पाटिल और आनंद सिंह. आनंद सिंह को लेकर पहले भी आशंका जताई गई थी कि वे भाजपा की मदद कर सकते हैं. खबरें हैं कि गायब कांग्रेस विधायक भाजपा नेता सोमशेखर रेड्डी के साथ देखे गए हैं. यह भी चर्चा है कि उन्हें एक होटल में बंधक बनाकर रखा गया है. इससे पहले एक और विधायक रामालिंगम रेड्डी भी गायब बताए जा रहे थे, लेकिन कांग्रेस का कहना है कि रेड्डी उसके संपर्क में हैं. 224 सदस्यीय विधानसभा में 222 सीटों पर वोटिंग हुई थी.

कर्नाटक में नई भाजपा सरकार की किस्मत का फैसला शनिवार शाम चार बजे होना है. सुप्रीम कोर्ट ने बहुमत परीक्षण के लिए प्रोटेम स्पीकर केजी बोपैया को बरकरार रखा है. सदन की कार्यवाही और विधायकों को शपथ दिलाने की कार्यवाही शुरु हो चुकी है. जेडीएस नेता कुमारस्वामी दो सीटों पर चुनाव जीते हैं. यानी सदन की प्रभावी संख्या 221 होती है. ऐसे में बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा 111 होगा. भाजपा के पास 104 विधायक हैं यानी बहुमत से सात कम. वहीं कांग्रेस और जेडीएस के पास 117 विधायक हैं यानी बहुमत से छह ज्यादा. दो विधायकों के सदन में न पहुंचने ने जेडीएस-कांग्रेस की चिंता बढ़ा दी है. हालांकि इसके बाद भी सदन में गठबंधन का कोई विधायक क्रॉस वोटिंग नहीं करता है तो भाजपा बहुमत नहीं पा सकेगी. लेकिन अंतिम नतीजा क्या रहता है यह तो आज शाम ही पता चल पाएगा.