‘विभागों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस के साथ कुछ मतभेद हैं.’

— एचडी कुमारस्वामी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी क यह बयान कांग्रेस के साथ विभागों के बंटवारे को लेकर विवाद के बारे में पूछे जाने पर आया. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस के साथ मतभेद ऐसा मुद्दा नहीं है कि सरकार गिर जाएगी.’ मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने आगे कहा कि वे इसे प्रतिष्ठा मुद्दा न बनने देने और विवाद को सुलझाने की कोशिश करेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि वे अपने आत्मसम्मान को छोड़कर मुख्यमंत्री पद पर नहीं बने रहेंगे. कांग्रेस नेताओं के दिल्ली जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वे अपने केंद्रीय नेतृत्व की मंजूरी चाहते थे, इसलिए दिल्ली गए हैं, वापस आते ही कैबिनेट का विस्तार किया जाएगा.

‘भ्रष्टाचार के खिलाफ केंद्र की सख्ती ने दुश्मनों को भी अच्छा दोस्त बना दिया है.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह बयान अपनी सरकार की चार साल की उपलब्धियां बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘केंद्र सरकार की भ्रष्टाचार और काला धन के खिलाफ प्रतिबद्धता के चलते 5000 करोड़ रुपये के घोटाले में जमानत पर छूटे और अन्य घोटालों में शामिल लोग एक मंच पर आ गए.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि उन्होंने चार साल पहले भ्रष्टाचार को न बर्दाश्त करने का वादा किया था, आज चार पूर्व मुख्यमंत्री सलाखों के पीछे हैं. प्रधानमंत्री के मुताबिक जनता सब देख रही है, विपक्षी दल देश को नहीं, खुद को बचाने के लिए एक मंच पर आए हैं.


‘मोदी सरकार के कुशासन में एक साल से भी कम समय बचा है.’

— अहमद पटेल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता

कांग्रेस नेता अहमद पटेल का यह बयान केंद्र की मोदी सरकार को किसान विरोधी बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘भाजपा की सत्ता की लालच ने किसानों के कल्याण पर जीत हासिल कर ली है.’ अहमद पटेल ने यह भी कहा कि इस सरकार ने अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने के सवाल पर विपक्ष को जिम्मेदार ठहराने की नई परंपरा स्थापित की है. उधर, विज्ञापनों पर मोदी सरकार द्वारा 4600 करोड़ रुपये खर्च करने का सवाल उठाते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि चार साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रचार और जनता को केवल तकलीफ मिली है.


‘सत्ता में आने के बाद कुत्ता भी खुद को शेर समझने लगता है.’

— संजय राउत, शिवसेना सांसद

सांसद संजय राउत का यह बयान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की विवादित वीडियो क्लिप को लेकर आया. इसमें मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस किसी भी कीमत पर पालघर लोकसभा उपचुनाव जीतने की बात करते सुने जा रहे हैं. इस पर संजय राउत ने कहा, ‘मुख्यमंत्री पूरी तरह से अहंकार से भरे हुए हैं. हमने राजनीति में सब कुछ देखा है.’ उधर, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि वीडियो क्लिप में उनकी ही आवाज है लेकिन उसमें आधी बात को काट दिया गया है. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने यह भी कहा कि वे खुद चुनाव आयोग को विवादित क्लिप को भेजेंगे और जांच करके दोषियों को सजा देने की मांग करेंगे.


‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान के साथ शांति वार्ता के समर्थक नहीं हैं.’

— परवेज मुशर्रफ, पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का यह बयान भारत के साथ संबंधों को सामान्य बनाने को लेकर आया. उन्होंने कहा, ‘मैंने सत्ता में रहते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह से बात की थी, वे दोनों लोग विवादों से आगे बढ़ना चाहते थे.’ परवेज मुशर्रफ ने आगे कहा कि अब ऐसा नहीं हैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में सर्वोच्चता स्थापित करना चाहते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि भारत की ओर से पैदा किए गए अस्तित्व के खतरे की वजह से पाकिस्तान को परमाणु हथियार विकसित करना पड़ा. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति के मुताबिक अमेरिका, पाकिस्तान और भारत के साथ व्यवहार में भेदभाव करता है.