आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य कुमार विश्वास ने भी केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली से मानहानि के मामले में लिखित माफी मांग ली है. इसके साथ उन्होंने केंद्रीय मंत्री से इस मामले को वापस लेने का भी अनुरोध किया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार केंद्रीय मंत्री के अधिवक्ता ने बताया कि कुमार विश्वास की माफीनामे को स्वीकार कर लिया गया है. इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ आम आदमी पार्टी के आशुतोष, संजय सिंह, दीपक बाजपेयी और राघव चड्ढा ने अरुण जेटली से उन पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों के लिए माफी मांग ली थी. इसके बाद केंद्रीय मंत्री ने उनके खिलाफ चल रहे मामले को वापस ले लिया था.

वहीं, कुमार विश्वास ने पार्टी के अन्य नेताओं के साथ अरुण जेटली से माफी मांगने से इनकार कर दिया था. इस पर केंद्रीय मंत्री ने उनके खिलाफ मामला जारी रखने का फैसला किया था. लेकिन इस महीने की शुरुआत में दिल्ली हाई कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान कुमार विश्वास ने अरविंद केजरीवाल को आदतन झूठा बताया था. उन्होंने कहा था, ‘या तो उन्होंने (अरविंद केजरीवाल) तब झूठ बोला था या अब बोल रहे हैं. अब जब मैं कागजात मांग रहा हूं तब वे दे नहीं रहे. ये आदतन झूठा आदमी है, जिसकी वजह से अभी ये परिस्थितियां हैं.’ कुमार विश्वास ने यह भी कहा था कि वे निजी तौर पर इस मामले को अब आगे नहीं ले जाना चाहते, बस अपनी पार्टी के नेताओं से अरुण जेटली पर लगाए गए आरोपों का आधार जानना चाहते हैं. इस पर अरुण जेटली के अधिवक्ता ने कहा था कि उनके मुवक्किल का कुमार विश्वास और उनकी पार्टी के नेताओं के बीच की बातों से कोई लेना-देना नहीं है और यह मामला माफी मांगने के बाद ही खत्म होगा.

अरविंद केजरीवाल और उनके साथी नेताओं ने 2015 में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली पर दिल्ली जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) का अध्यक्ष रहते हुए उसमें बड़े पैमाने पर वित्तीय धांधली करने का आरोप लगाया था. लेकिन इन आरोपों को झूठा बताते हुए केंद्रीय मंत्री अरविंद केजरीवाल और अन्य नेताओं पर 10 करोड़ रुपए की मानहानि का मुकदमा कर दिया था.