राष्ट्रमंडल खेलों में लगातार दो बार स्वर्ण पदक जीतने वाली भारोत्तोलक संजीता चानू डोप टेस्ट में फेल हो गई हैं. अंतर्राष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ (आईडब्ल्यूएफ) ने इसकी पुष्टि की है.

आईडब्ल्यूएफ की वेबसाइट के मुताबिक, ‘चानू को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन का दोषी पाया गया है. इसलिए उन्हें आगामी प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लेने के लिहाज़ से निलंबित कर दिया गया है. भविष्य में होने वाले परीक्षणों में अगर पाया गया कि उन्होंने प्रतिबंधित दवाएं नहीं ली हैं और एंटी-डोपिंग नियमों का उल्लंघन नहीं किया है तो उस स्थिति के मुताबिक फ़ैसला लिया जाएगा.’ आईडब्ल्यूएफ ने इसके अलावा कोई विशेष जानकारी उपलब्ध नहीं कराई है.

ग़ौरतलब है कि संजीता चानू ने इस साल गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में 53 किलोग्राम वर्ग में भारोत्तोलन का स्वर्ण पदक जीता था. इसके अलावा चार साल पहले उन्होंने ग्लासगो में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में 48 किलोग्राम वर्ग में यह उपलब्धि हासिल की थी. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक चानू के डोप टेस्ट में फेल होने की सूचना मिलते ही भारतीय भारोत्तोलन महासंघ ने उन्हें प्रशिक्षण शिविर छोड़ने का निर्देश दे दिया है. इसके बाद हिमाचल प्रदेश के शिलारू स्थित साई (भारतीय खेल प्राधिकरण) केंद्र में लगे प्रशिक्षण शिविर को छोड़कर वे मणिपुर स्थित अपने घर के लिए रवाना हो गई हैं.