कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल सेकुलर (जेडीएस) ने ऐलान किया है कि वे 2019 का लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगे. शुक्रवार को मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने यह जानकारी दी. भाजपा के लिए यह चिंताजनक खबर है जो बीते विधानसभा चुनाव में 36 फीसदी वोटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. इस चुनाव में कांग्रेस और जेडीएस को मिले वोट जोड़ें तो यह आंकड़ा 56 फीसदी बनता है. कर्नाटक में लोकसभा की 28 सीटें हैं.

केसी वेणुगोपाल ने यह भी बताया कि नई सरकार में मंत्रालयों के बंटवारे को लेकर भी दोनों पार्टियों में सहमति बन गई है. वेणुगोपाल के मुताबिक वित्त, लोक निर्माण, ऊर्जा, पर्यटन और शिक्षा मंत्रालय जेडीएस के पास रहेगा जबकि कांग्रेस गृह, सिंचाई, स्वास्थ्य, शहरी एवं ग्रामीण विकास और कृषि जैसे मंत्रालय रखेगी.

कर्नाटक में जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. लेकिन मंत्रालयों के बंटवारे को लेकर दोनों पार्टियों में सहमति न बन पाने के चलते मंत्रिमंडल विस्तार अभी तक अटका हुआ था. अब बताया जा रहा है कि यह विस्तार छह जून को होगा.