जम्मू-कश्मीर पुलिस ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की श्रीनगर यूनिट के खिलाफ शनिवार को एक एफआईआर दर्ज की. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक शुक्रवार को श्रीनगर के नौहट्टा इलाके में 21 वर्षीय कैसर अहमद नाम का एक युवक सीआरपीएफ के एक वाहन के नीचे आ गया था. इस दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल होने के बाद उसे नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां शनिवार को उसने दम तोड़ दिया.

स्थानीय पुलिस ने सीआरपीएफ के खिलाफ इसी मामले में एफआईआर दर्ज की है. साथ ही इस मामले में पत्थरबाजों के खिलाफ भी एक एफआईआर लिखी गई है. राज्य के अलगाववादी नेताओं ने युवक की मौत पर इलाके में बंद का आह्वान किया है. ऐसे में इस इलाके की सुरक्षा-व्यवस्था बनाए रखने के लिए यहां सुरक्षाकर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है. साथ ही इंटरनेट सेवाओं को भी फिलहाल बंद कर दिया गया है.

बताया जाता है कि शुक्रवार को नमाज के बाद नौहट्टा इलाके में हिंसा भड़क उठी थी. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान समेत कई आतंकवादी संगठनों के झंडे लहराये थे. इसके अलावा उन्होंने सुरक्षा बलों के साथ-साथ सीआरपीएफ के एक वाहन पर पथराव भी किया था. पथराव के दौरान सीआरपीएफ के ड्राइवर ने उस जगह से वाहन निकालने की काशिश की थी और इसी कोशिश में कथित तौर पर तीन युवा इससे टकरा गए थे.

उधर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस घटना पर शोक जताते हुए प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा, ‘सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों में डर बैठाने के लिए पहले स्थानीय युवक को अपनी जीप के ऊपर बांधकर उसे गांवों में घुमाया और अब सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों के ऊपर ही जीप चढ़ानी शुरू कर दी है.’