पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा का सिलसिला जारी है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सोमवार रात बगनान शहर में अज्ञात हमलावरों ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ता महसीन खान की गोली मारकर हत्या कर दी. हालिया पंचायत चुनाव में उसकी पत्नी ने जीत दर्ज की थी. टीएमसी ने इस हत्या के लिए भाजपा पर आरोप लगाया है.

बीते हफ्ते पुरुलिया जिले के बलरामपुर में दो भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या हो गई थी. भाजपा कार्यकर्ता दुलाल कुमार का शव बिजली के खंबे से, जबकि त्रिलोचन का शव पेड़ से लटका मिला था. पुलिस को त्रिलोचन के शव के साथ बंगाली में लिखा एक संदेश भी मिला था, जिसमें भाजपा से उसके जुड़ाव को हत्या की वजह बताया गया था.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं की हत्या के लिए टीएमसी पर निशाना साधा था. ट्विटर पर उन्होंने लिखा था, ‘बलरामपुर के युवा कार्यकर्ता त्रिलोचन महतो की निर्मम हत्या से मैं बहुत दुखी हूं. उसे सिर्फ इसलिए मार दिया गया क्योंकि उसकी विचारधारा राज्य प्रायोजित गुंडों (टीएमसी कार्यकर्ताओं) के विचारों से मेल नहीं खाती थी.’ केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने भी टीएमसी पर भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या करने का आरोप लगाया था. वहीं, पार्टी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने टीएमसी को ‘तालिबान कांग्रेस पार्टी’ बताया था. इसी बीच पश्चिम बंगाल की पुलिस ने इन मामलों की जांच सीआईडी को सौंप दी है. इसके अलावा पुरुलिया के पुलिस अधीक्षक का भी तबादला कर दिया है. पश्चिम बंगाल ने बीते कुछ महीनों से राजनीतिक हिंसा में इजाफा देखा जा रहा है.