राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने अपने नागपुर मुख्यालय में इफ्तार पार्टी की मांग खारिज कर दी है. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार बीते हफ्ते आरएसएस से जुड़े संगठन राष्ट्रीय मुस्लिम मंच की महाराष्ट्र इकाई के संयोजक फारुख शेख ने नागपुर महानगर सह संघचालक राजेश लोया से स्मृति मंदिर परिसर में इफ्तार पार्टी आयोजित करने की मांग की थी. लेकिन आरएसएस ने उनकी मांग को खारिज कर दिया. आरएसएस के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘स्मृति मंदिर में ऐसा कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं हो सकता है. अभी वहां तीसरे वर्ष का प्रशिक्षण शिविर चल रहा है.’

रिपोर्ट के मुताबिक फारुख शेख ने आरएसएस कार्यालय की इफ्तार पार्टी को शाकाहारी रखने का भी प्रस्ताव दिया था लेकिन इसका भी कोई फायदा नहीं हुआ. आरएसएस से इफ्तार पार्टी की मांग करने की वजह पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘मैंने सोचा कि ऐसे समय में आरएसएस की ओर से इफ्तार पार्टी के आयोजन से भाईचारे का संदेश जाएगा, जब दुनिया भारत में बढ़ती असहनशीलता पर बात कर रही है. इसमें गलत क्या है?’ फारुख शेख के मुताबिक बीते साल उन्होंने मोमिनपुरा की जामा मस्जिद के सामने इफ्तार पार्टी आयोजित की थी, जिसमें आरएसएस और भाजपा के कुछ नेता भी शामिल हुए थे.

इस बीच राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद अफजल ने आरएसएस द्वारा इफ्तार पार्टी से इनकार करने के बाद महाराष्ट्र इकाई में मतभेद की खबरों को खारिज कर दिया है. द इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत में उन्होंने कहा, ‘इस्लाम किसी से मुस्लिमों के लिए इफ्तार पार्टी आयोजित करने के लिए नहीं कहता है. अगर कोई मुस्लिम इफ्तार पार्टी करना चाहता है तो वह किसी से कहता नहीं है, बल्कि खुद करता है.’ मोहम्मद अफजल के मुताबिकआरएसएस से इफ्तार पार्टी की मेजबानी की उम्मीद करना इस्लाम के बुनियादी उसूलों के खिलाफ है, फारुख शेख ने उत्साह में आकर यह मांग की थी.