केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने आश्वासन दिया है कि निपाह वायरस को लेकर स्थिति नियंत्रण में है और जल्दी ही इसके प्रकोप में कमी आएगी. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मंगलवार को उन्होंंने कहा, ‘निपाह वायरस के मामले सामने आने के 12 घंटों के भीतर डॉक्टरों की टीम (केंद्र के) केरल पहुंच गई थी और फिर इसके नियंत्रण के उपायों पर चर्चा हुई और तय समय में इस पर काबू पा लिया गया.’

जेपी नड्डा ने यह भी कहा है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ वे खुद भी हालात पर पैनी नजर बनाए हुए हैं. इसके अलावा दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) और सफदरजंग अस्पताल के अलावा पुणे के राष्ट्रीय वायरोलॉजी संस्थान के वैज्ञानिकों और डॉक्टरों की एक टीम भी केरल भेजी गई है. इससे पहले सोमवार को जेपी नड्डा ने इस वायरस के फैलने के पीछे इंसानों द्वारा प्रकृति के साथ की जा रही छेड़छाड़ को जिम्मेदार बताया था.

उधर केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने निपाह वायरस से पीड़ित मरीजों की चिकित्सा का खर्च राज्य सरकार की तरफ से उठाने की बात कही है. यह घोषणा उन्होंने सोमवार को की. इस खतरनाक वायरस की वजह से राज्य में अब तक 16 रोगियों की जान जा चुकी है. राज्य के कोझिकोड, मल्लापुरम, वायनाड और कन्नूर जिले इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं. निपाह वायरस की वजह से केरल के पर्यटन क्षेत्र और अन्य कारोबारी क्षेत्रों को भी नुकसान पहुंच रहा है.