मध्य पूर्व की राजनीति खेल पर भी असर डाल रही है. विश्व कप से पहले अर्जेंटीना और इजराइल के बीच होना वाला अभ्यास मैच फिलीस्तीनी संगठनों की धमकी के कारण रद्द कर दिया गया है. मैच यरुशलम में होना था जिस पर इजराइल और फिलीस्तीन दोनों ही अपना हक जताते हैं. इस मैच को लेकर अरब संगठनों ने धमकी दी थी कि अगर अर्जेंटीना यह मैच खेलता है तो लियोनल मेसी के पोस्टर जलाए जाएंगे.

बुधवार को अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस अायर्स में स्थित इजराइल के दूतावास ने 09 जून को होने वाले इस मैच के रद्द होने की घोषणा की. दूतावास के अधिकारियों ने मैच रद्द होने पर खेद जताते हुए कहा, ‘दुनिया के प्रसिद्ध फुटबॉलर मेसी को कई तरह की धमकी दी गईं. मैदान पर कुछ असहज न हो इसलिए हमने मैच रद्द करने का फैसला किया.’ इजराय़ल के रक्षा मंत्री ने भी कहा, ‘मैच रद्द होना अफसोसनाक है. यह घृणा और तनाव के माहौल को बढ़ाने वाला है.’

मैच का अायोजन यरूशलम में कराए जाने के फैसले के बाद फिलीस्तीनी संगठनों ने कहा था कि अर्जेंटीना को इजराइल में नहीं खेलना चाहिए. फिलीस्तीन फुटबाल एसोसिएशन के प्रमुख जिबरील रजऊब ने यह कहकर इस विवाद को हवा दे दी थी कि अगर मेसी इजराइल में खेलते हैं तो अरब उनके पोस्टर और उनकी फोटो वाले टी-शर्ट जलाएंगे. रजऊब हमेशा अंतरराष्ट्रीय फुटबाल में इजराइल के शामिल होने का विरोध करते रहे हैं.