अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार दोहराया है कि उत्तर कोरिया को अपने परमाणु हथियार खत्म करने ही होंगे. डोनाल्ड ट्रंप को अगले मंगलवार उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन से मिलना है. यह मुलाकात सिंगापुर में होगी. द टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, ‘दोनों देशों के बीच यह बैठक दोस्ताना माहौल में होने जा रही है. ऐसे में अमेरिका की कोशिश रहेगी कि वह उत्तर कोरिया को परमाणु प्रसार रोकने और इन हथियारों को खत्म करने के लिए तैयार करे. अगर वह ऐसा नहीं करता तो अमेरिका की तरफ उत्तर कोरिया पर लगाए गए आर्थिक प्रतिबंध जारी रहेंगे.’

डोनाल्ड ट्रंप ने उम्मीद जताई कि किंग जोंग उन के साथ उनकी बैठक दो देशों के नेताओं के एक साथ खड़े होकर तस्वीरें खिंचवाने तक ही सीमित नहीं रहेगी. उन्होंने कहा कि इससे अमेरिका और उत्तर कोरिया के रिश्तों में नजदीकी बढ़ने के साथ-साथ कोरियाई प्रायदीप में शांति स्थापना की राह भी मजबूत होगी. अमेरिकी राष्ट्रपति का कहना था, ‘मुझे इस बात का पूरा विश्वास है कि किम जोंग-उन इस बैठक के जरिये बहुत कुछ करने की इच्छा रखते हैं.’

सिंगापुर के सेनटोसा द्वीप में डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की इस बैठक पर दुनिया भर की निगाहें लगी हुई हैं. इस दौरान इस बैठक को लेकर डोनाल्ड ट्रंप के वकील रूडी गियुलियानी ने एक विवादित बयान दिया है. गुरुवार को इजरायल में उन्होंने कहा है बीते महीने जब यह बैठक स्थगित होने के कगार पर पहुंच गई थी तो किम जोंग उन ने घुटनों के बल गिड़गिड़ाते हुए ट्रंप से मुलाकात करने के लिए अपील की थी. हालांकि उत्तर कोरिया की तरफ से इस बयान पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.