कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने अपने पिता पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए एक बार फिर झिड़की दी है. सोशल मीडिया पर आई उनकी एक फर्जी तस्वीर को साझा करते हुए ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘देखो, मुझे इसी बात डर सता रहा था और अपने पिता को आगाह भी किया था. कार्यक्रम को कुछ घंटे भी नहीं बीते, लेकिन भाजपा और आरएसएस का डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट (दुष्प्रचार करने वाला विभाग) सक्रिय हो गया.’

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने जिस तस्वीर को साझा करते हुए यह आपत्ति जताई है, वह गुरुवार को आरएसएस मुख्याल में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के शामिल होने से जुड़ी है. इसमें पूर्व राष्ट्रपति आरएसएस के अन्य पदाधिकारियों की तहत अपने दाएं हाथ को सीने पर रखकर अभिवादन करते दिखाई दे रहे हैं और काली टोपी भी पहने हुए हैं. लेकिन असलियत में ऐसा कुछ नहीं हुआ था. गुरुवार को आरएसएस मुख्यालय में मंच पर जब उसके पदाधिकारी अपने खास अंदाज में अभिवादन कर रहे थे, तब पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी सावधान मुद्रा में और अपने दोनों हाथों को नीचे करके खड़े थे. इसके अलावा उन्होंने कोई टोपी नहीं पहन रखी थी.

कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने बुधवार को भी अपने पिता प्रणब मुखर्जी के आरएसएस के कार्यक्रम में जाने के फैसले पर सवाल उठाया था और उन्हें सचेत किया था. भाजपा में शामिल होने की अटकलों को खारिज करते हुए ट्विटर पर उन्होंने लिखा था, ‘उम्मीद है कि आज की घटना से प्रणव मुखर्जी (पूर्व राष्ट्रपति) महसूस कर रहे होंगे कि भाजपा का डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट कैसे काम करता है. आरएसएस कभी नहीं मानेगा कि आप अपने भाषण में उसके विचारों का समर्थन करने जा रहे हैं. आपके भाषण को भुला दिया जाएगा लेकिन तस्वीरें बची रहेंगी, जिसे बाद में फर्जी बयानों के साथ प्रचारित किया जाएगा.’ शर्मिष्ठा मुखर्जी ने यह भी कहा था कि वे कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने के बजाए राजनीति से संन्यास लेना पसंद करेंगी.